Saturday, 23 February 2019, 7:02 AM

धर्म कर्म

क्यों मनाते हैं रथ सप्तमी : यहां पढ़ें सूर्य पूजन और अर्घ्य का शुभ मुहूर्त

Updated on 12 February, 2019, 6:00
रथ सप्तमी माघ महीने के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को मनाया जाता है। आमतौर पर रथ सप्तमी का पर्व वसंत पंचमी के दूसरे या तीसरे दिन मनाया जाता है। इस पर्व को सूर्य जयंती, माघ जयंती या माघ सप्तमी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु के... आगे पढ़े

कामदेव का यह एक मंत्र बढ़ाएगा 21 दिनों में आपकी आकर्षण शक्ति... पा सकते हैं मनचाहा प्यार

Updated on 11 February, 2019, 6:30
कामदेव की कथा से तो सभी परिचित हैं। कामदेव प्रेम, आकर्षण, काम भावना और प्रबलतम लगाव के देवता हैं। उनके यह दो पौराणिक मंत्र मनचाहा प्यार पाने में सहायक हो सकते हैं। मंत्र के नियमित जाप से आकर्षण शक्ति में वृद्धि होती है।     कामदेव वशीकरण मंत्र .... ‘ॐ कामदेवाय विद्महे, रति... आगे पढ़े

कर्ज से तबाह मत होइए, शर्तिया मिलेगा समाधान, पढ़ें 9 काम की बातें

Updated on 11 February, 2019, 6:30
तीन चीजें कभी-कभी इंसान को तबाह कर देती हैं, वे हैं- कर्ज, बीमारी और मुकदमा चाहें। गरीब हो या अमीर, हम अपनी मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए कभी न कभी कर्ज जरूर लेते हैं। आज लगभग सभी व्यक्ति कम या अधिक कर्ज से ग्रस्त हैं। यहां तक कि... आगे पढ़े

क्या आप भी उठ जाते हैं खाते-खाते? बर्बाद कर सकती है यह गलती.. पढ़ें जरूरी जानकारी

Updated on 11 February, 2019, 6:00
हमारे धर्म ग्रंथों में दैनिक जीवन से जुड़े हर काम के लिए कुछ नियम बताए गए हैं। पुराने समय में इन नियमों का पालन करना अनिवार्य माना जाता है, लेकिन बदलते समय के साथ ये नियम भी बदल गए। भोजन से जुड़े कुछ नियम भविष्य पुराण में भी मिलते हैं। भोजन... आगे पढ़े

हथेली में हैं ऐसी रेखाएं तो शनि कुछ बिगाड़ नहीं पाएगा आपका, रहेगी हनुमानजी की कृपा

Updated on 8 February, 2019, 6:45
हाथ की रेखाओं का विश्‍लेषण करते वक्‍त मंग्रल ग्रह और शनि का जिक्र न हो तो ऐसा संभव नहीं है। हनुमान जी को मंगल का ही दूसरा स्‍वरूप माना जाता है। भगवान राम के परम भक्‍त हनुमानजी ने अपने प्रभु की शक्ति के दम पर ही वानर सेना के साथ... आगे पढ़े

कुरुक्षेत्र के युद्ध में जब जयद्रथ छिप गया तो श्रीकृष्ण ने किया ऐसा कार्य कि वह जाल में फंस गया

Updated on 8 February, 2019, 6:15
आज हम आपको जयद्रथ के वध की अद्भुत कथा बताते हैं। भगवान श्रीकृष्ण की नीति के चलते अर्जुन के पुत्र अभिमन्यु को चक्रव्यूह को भेदने का आदेश दिया गया। यह जानते हुए भी कि अभिमन्यु चक्रव्यूह भेदना तो जानते हैं, लेकिन उससे बाहर निकलना नहीं जानते। दरअसल, अभिमन्यु जब सुभद्रा... आगे पढ़े

पांडवों के सगे मामा शल्य जब दुर्योधन की ओर से लड़े तो की एक चालाकी

Updated on 7 February, 2019, 6:30
रघुवंश के शल्य पांडवों के मामाश्री थे। लेकिन कौरव भी उन्हें मामा मानकर आदर और सम्मान देते थे। पांडु पत्नी माद्री के भाई अर्थात नकुल और सहदेव के सगे मामा शल्य के पास विशाल सेना थी। जब युद्ध की घोषणा हुई तो नकुल और सहदेव को तो यह सौ प्रतिशत... आगे पढ़े

ययाति का यदु कुल को शाप, इसलिए राजवंशियों के द्वारा बहिष्कृत हैं यदुवंशी

Updated on 7 February, 2019, 6:15
मित्रों क्या आपको पता है कि राजा ययाति ने अपने पुत्र यदु को क्या शाप दिया ‍था? इसी यदु के कुल में भगवान कृष्ण का अवतार हुआ था। शाप की कथा शिशुपाल ने धर्मराज युधिष्ठिर के राजसूय यज्ञ में सुनाई थी। इक्ष्वाकु वंश के राजा नहुष के छः पुत्र थे- याति,... आगे पढ़े

ये हैं वीणावादिनी मां सरस्वती के चमत्कारिक मंत्र, देंगे ज्ञान, होगी विद्या की प्राप्ति...

Updated on 7 February, 2019, 6:00
संपूर्ण भारत में वसंत पंचमी का उत्सव ज्ञान की देवी 'मां सरस्वती' के जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता है। इसी दृष्टि से वसंत का मौसम शिक्षकों के लिए बहुत मायने रखता है, क्योंकि इस दिन शुभ्रवसना, वीणावादिनी, मंद-मंद मुस्कुराती हंस पर विराजमान मां सरस्वती मानव जीवन में अज्ञान रूप... आगे पढ़े

अगले 45 दिनों तक मंगल और मेष की युति से बनेगा अनिष्ट और भय का वातावरण

Updated on 6 February, 2019, 6:45
पराक्रम के देव मंगल का राशि परिवर्तन दिनांक 5 फरवरी की रात 11 बजकर 47 मिनट पर मीन से स्वयं की राशि मेष में प्रवेश हुआ है। इस स्थिति में मंगल अगले 45 दिनों तक रहेंगे। उल्लेखनीय है कि मेष राशि को मंगल का ग्रहस्थान माना जाता है। अपनी राशि में... आगे पढ़े

यहां लगता है भूतों का मेला, चढ़ता है खुद के वजन का गुड़

Updated on 6 February, 2019, 6:30
मध्यप्रदेश के बैतूल जिले से 42 किमी दूर चिचोली तहसील मुख्यालय से करीब सात किलोमीटर की दूरी पर बसे मलाजपुर गांव में भूतों का मेला लगता है। प्रतिवर्ष मकर संक्रांति के बाद वाली पूर्णिमा को लगने वाला भूतों का यह मेला वसंत पंचमी तक चलता है। दूर-दूर से लोग यहां... आगे पढ़े

कुंभ में विदेशी श्रद्धालु भी हो रहे हैं शामिल, लगा रहे आस्‍था की डुबकी

Updated on 6 February, 2019, 6:15
कुंभ नगर। दुनिया के विशाल धार्मिक आयोजनों में शुमार सनातन धर्मावलम्बियों के ‘कुंभ मेला’ के प्रभाव से पश्चिमी सभ्यता भी अछूती नहीं है।  तीर्थराज प्रयाग में कुंभ के अवसर पर सुदूर क्षेत्रों से विरक्त, गृहस्थ और विदेशी पतित पावनी गंगा, श्यामल यमुना और अन्त: सलिला स्वरूप में प्रवाहित सरस्वती के त्रिवेणी... आगे पढ़े

श्रीकृष्ण, प्रॉफेट मूसा और ईसा मसीह के बीच समानता जानकर हैरान रह जाएंगे

Updated on 5 February, 2019, 6:30
यहां जो जानकारी दी जा रही है वह शोध का विषय है। जिस तरह भगवान ब्रह्मा और प्रॉफेट अब्राहम, राजा मनु और प्रॉफेट नूह की कहानी में असाधारण रूप से समानता है उसी तरह कृष्ण, मूसा और ईसा मसीह के जीवन में भी समानता है। समानताओं के आधार पर निश्‍चित... आगे पढ़े

प्रभु श्रीराम ने इस राक्षस को क्यों जिंदा गाड़ दिया था, जानिए

Updated on 5 February, 2019, 6:15
विराध दंडकवन का राक्षस था। सीता और लक्ष्मण के साथ राम ने दंडक वन में प्रवेश किया। वहां पर उन्हें ऋषि-मुनियों के अनेक आश्रम दृष्टिगत हुए। राम उन्हीं के आश्रम में रहने लगे। ऋषियों ने उन्हें एक राक्षस के उत्पात की जानकारी दी। राम ने उन्हें निर्भीक किया। वहां से... आगे पढ़े

वसंत पंचमी की सुंदर पौराणिक कथा : जब चतुर्भुज सुंदरी प्रकट हुई मां सरस्वती के रूप में

Updated on 5 February, 2019, 6:00
वसंत को ऋतुओं का राजा कहा जाता है। इस ऋतु में मौसम खूबसूरत हो जाता है। फूल, पत्ते, आकाश, धरती सब पर बहार आ जाती है। सारे पुराने पत्ते झड़ जाते हैं और नए फूल आने लगते हैं। प्रकृति के इस अनोखे दृश्य को देख हर व्यक्ति का मन मोह... आगे पढ़े

रुक्मणि के अलावा श्रीकृष्ण ने उज्जैन की राजकुमारी का भी किया था हरण

Updated on 3 February, 2019, 6:30
मित्रविन्दा और श्रीकृष्ण के विवाह के संबंध में दो कथाएं मिलती है। पहली कथा के अनुसार मित्रविन्दा भी रुक्मणि की तरह मन ही मन श्रीकृष्ण से प्रेम करने लगी थी। उसके भाई विन्द और अनुविन्द उसका विवाह दुर्योधन से करना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने रीति रिवाज के अनुसार स्वयंवर... आगे पढ़े

मायावी राक्षसनी हिडिम्बा को जब हो गया भीम से प्रेम तो मारा गया हिडिम्ब

Updated on 3 February, 2019, 6:15
हिडिम्बा राक्षस जाती की मायावी महिला थी। हिडिम्बा और भीम के संबंध में अलग-अलग कथाएं मिलती है। उन्हीं में से एक कथा यहां प्रस्तुत है। पांचों पांडव लक्षागृह से बचने के बाद एक रात जंगल में सो रहे थे और भीम पहरा दे रहे थे। जिस जंगल में सो रहे थे... आगे पढ़े

इस वर्ष इन 5 प्रकार के लोगों पर रहेगी बहस्पति की विशेष कृपा, जानिए

Updated on 3 February, 2019, 6:00
बृहस्पति को देवताओं का गुरु माना गया है, ज्योतिषशास्त्र के अंतर्गत यह माना जाता कि जिस व्यक्ति की कुंडली में गुरु की स्थिति मजबूत होती है वह बेहद धार्मिक प्रवृत्ति का इंसान होता है और वह चरित्र और स्वभाव से भी उज्जवल होता है। स्त्री की कुंडली में बृहस्पति जीवनसाथी... आगे पढ़े

मौनी अमावस्या को सोमवती अमावस्या का दुर्लभ संयोग 

Updated on 2 February, 2019, 19:15
इस बार मौनी अमावस्या को सोमवती अमावस्या का दुर्लभ संयोग होगा, जो कि लगभग पांच दशक बाद बन रहा है।माघ मास के सर्वप्रमुख स्नान माघी अमावस्या यानी मौनी अमावस्या इस बार चार फरवरी को है। माघ की अमावस्या तिथि तीन फरवरी की रात 11.12 बजे लग रही है, जो चार... आगे पढ़े

काला धागा बना सकता है आपको बहुत धनवान, शनिवार को कर डालें यह उपाय

Updated on 2 February, 2019, 6:30
काला धागा बांधने की प्रथा आज की नहीं है, कई सालों से इसे हाथ, पैर, गले और बाजु में बांधा जाता रहा है। मूल रूप से इसे नजर से बचने के लिए बांधा जाता है.. आइए जानें इसके विषय में विस्तार से... वास्तव में काला धागा बांधने के पीछे वैज्ञानिक कारण... आगे पढ़े

आप नहीं जानते होंगे किंचित दान से संबंधित यह खास जानकारी

Updated on 2 February, 2019, 6:15
किंचिद्दान :- प्रयाग में माधव की प्रसन्नता के लिए, जाने-अनजाने पापों से छुटकारा पाने के लिए हर गृहस्थ को अपनी कमाई के अनुसार कुछ न कुछ दान अवश्य करना चाहिए। इसे किंचिद्दान (किंचित दान) कहा गया है। इसका बहुत महत्व है। प्रयाग में खासतौर से माघ महीने में यह दान... आगे पढ़े

महाभारत के प्रमुख पात्रों का परिचय भाग 1

Updated on 2 February, 2019, 6:00
महाभारत में यूं तो हजारों किरदार हैं, लेकिन यहां प्रस्तुत है उन लोगों का संक्षिप्त परिचय जिनका महाभारत के युद्ध से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से संबंध रहा है। कृष्ण- वसुदेव और देवकी की आठवीं सन्तान और भगवान विष्णु के आठवें अवतार जिन्होंने अपने दुष्ट मामा कंस का वध किया था।... आगे पढ़े

जीवन का हर मनचाहा सुख देती है माघ मास की पवित्र पौराणिक कथा

Updated on 1 February, 2019, 6:30
स्कंदपुराण के रेवाखंड में माघ स्नान की कथा के उल्लेख में आया है कि प्राचीन काल में नर्मदा तट पर शुभव्रत नामक ब्राह्मण निवास करते थे। वे सभी वेद शास्त्रों के अच्छे ज्ञाता थे। किंतु उनका स्वभाव धन संग्रह करने का अधिक था। उन्होंने धन तो बहुत एकत्रित किया। वृद्घावस्था के... आगे पढ़े

शनि दोष से पीड़ित जातक करें ये उपाय 

Updated on 30 January, 2019, 16:00
शनिदेव न्याय के देवता माने जाते हैं और हमारे कर्मों के अनुसार फल देते हैं। हमारे जीवन में भी ग्रहों का प्रभाव बहुत अधिक माना जाता है और उस पर भी शनि ग्रह अशांत हो जाएं तो जीवन में कष्टों की शुरुआत हो जाती है। इसलिए शनि दोष से पीड़ित... आगे पढ़े

बहुचरा माता ऐसे बनीं किन्‍नरों की कुलदेवी 

Updated on 30 January, 2019, 15:45
आस्‍था के महापर्व कुंभ में इस बार पहली बार किन्‍नर अखाड़े की भी पेशवाई निकली। इतना ही नहीं जूना अखाड़े के साथ किन्‍नर अखाड़े ने भी पहली बार कुंभ के शाही स्‍नान में हिस्‍सा लिया। किन्‍नर अखाड़े के साधुओं ने सबसे पहले भगवान शिव के अर्धनारीश्वर स्‍वरूप और बहुचरा माता... आगे पढ़े

दक्षिण दिशा में न लगायें तुलसी

Updated on 30 January, 2019, 15:15
सनातन धर्म में तुलसी का पौधा बेहद पवित्र और पूज्यनीय माना जाता है। इसलिए प्रत्येक घर में सुख, शांति के लिए यह पौधा लगाया जाता है और दीपक जलाने के साथ ही इसकी सुबह-शाम पूजा होती है। तमाम गुणों से युक्त तुलसी के पौधे को सही दिशा में होना चाहिए।... आगे पढ़े

आखिर वसंत ऋतु में ही पंछी क्यों गुनगुनाते हैं? जानिए क्या कहता है शोध...

Updated on 30 January, 2019, 9:45
क्या आपने कभी सोचा है कि पक्षी वसंत ऋतु में ही क्यों गाते हैं? आप कह सकते हैं कि यह मौसम के रूमानी होने का असर होता है, लेकिन अब नए शोध से यह बात सामने आई है कि जिस प्रकार मनुष्यों पर मौसम में उतार-चढ़ाव का असर होता है,... आगे पढ़े

प्यार-मोहब्बत का मौसम है वसंत, खिल उठते हैं पांचों तत्व

Updated on 30 January, 2019, 9:30
वसंत ऋतु में पंच तत्व अपना प्रकोप छोड़कर सुहावने रूप में प्रकट होते हैं। पंच तत्व जल, वायु, धरती, आकाश और अग्नि सभी अपना मोहक रूप दिखाते हैं। आकाश स्वच्छ है, वायु सुहावनी है, अग्नि (सूर्य) रुचिकर है, तो जल पीयूष के समान सुखदाता। और धरती? उसका तो कहना ही... आगे पढ़े

राजा को इस तरह मिला मृत्यु के भय से छुटकारा

Updated on 30 January, 2019, 6:15
राजा परीक्षित को सर्प ने डंस लिया था, मृत्यु का एक दिन शेष था। शुकदेव छह दिनों से भागवत कथा सुना रहे थे, लेकिन राजा का शोक और मृत्यु का भय कम नहीं हुआ था। शुकदेव ने राजा को एक कथा सुनाई, ‘एक राजा जंगल में शिकार खेलने गया और... आगे पढ़े

हवन के चमत्कारी फायदे वैज्ञानिक भी मान गए, पढ़ें यह दिलचस्प जानकारी

Updated on 28 January, 2019, 6:30
शोध संस्थानों के ताजा शोध नतीजे बताते हैं कि हवन वातावरण को प्रदूषण मुक्त बनाने के साथ ही अच्छी सेहत के लिए जरूरी है। हवन के धुएँ से प्राण में संजीवनी शक्ति का संचार होता है। हवन के माध्यम से बीमारियों से छुटकारा पाने का जिक्र ऋग्वेद में भी है। हवन... आगे पढ़े