छत्तीसगढ़ में साल के आखिर में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर छत्तीसगढ़ बीजेपी मिशन गुजराती पर जुट गई है. हालांकि इस पर राजनीतिक बयानबाजी भी तेज हो गई है. चुनाव से पहले मिशन 65 को लेकर चल रही बीजेपी अपना मिशन पूरा करने के लिए हर वर्ग को साधने की जुगत में जुटी हुई है. इसी क्रम में प्रदेश बीजेपी ने मिशन गुजराती तय की है, जिसके तहत प्रदेशभर के डेढ़ लाख गुजरातियों को साधने के लिए बीजेपी ने खास प्लान तैयार किया है.

लिहाजा, इसकी शुरुआत गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कर दी है. आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ में गुजराती समाज के करीब डेढ़ लाख लोग रहते हैं, जिनमें से करीब एक लाख मतदाता हैं. इन्हीं एक लाख मतदाताओं को साधने के लिए बीजेपी ने मिशन गुजराती तैयार किया है.

दरअसल, बीते शनिवार को रायपुर के पंडित दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में गुजराती एसोसिएशन के सदाकाल गुजरात कार्यक्रम में गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित हुए थे. इस दौरान रूपाणी ने कहा कि गुजराती समाज भारतीय जनता पार्टी के साथ है. वहीं छत्तीसगढ़ में सीएम रमन सिंह के कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि आगामी चुनाव में यहां की जनता एक बार फिर से भारतीय जनता पार्टी को ही विजयी बनागी.

वहीं कांग्रेस इस बात को मानने को बिल्कुल भी तैयार नहीं है. यही कारण है कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मुख्य प्रवक्ता सुशील आंनद शुक्ला ने बीजेपी को गुजरात चुनाव परिणाम की याद दिलाई है. वहीं राजनीतिक जमीन की तलाश में जुटी जोगी कांग्रेस ने भी बीजेपी के इस दांव को असफल कोशिश करार दिया है.

बहरहाल, चुनावी साल में बीजेपी का यह दांव कितना कारगर साबित होगा, यह तो वक्त ही तय करेगा. फिलहाल, बीजेपी के हर दांव और हर रणनीति पर विपक्षीय दलों की पैनी नजर है.