नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली पर हमेशा से आतंकी हमले का अलर्ट रहता है. लिहाजा दिल्ली को हमेशा हाइअलर्ट पर रहती है. दिल्ली पुलिस हमेशा आतंकियों और आने वाले खतरों से निपटने के लिए अपने आपको तैयार रखने की कोशिश करती है. दिल्ली पुलिस की उसी कोशिश की कड़ी में आज उसको बस की शक्ल में एक ऐसी ताकत मिली है जो उसे महाभारत के संजय जैसी ताक़त देती है. 

'संजय' जैसी ताक़त मतलब ऐसी आधुनिक तकनीक जो दिल्ली पुलिस के सेंट्रल पुलिस कंट्रोल रूम में बैठकर पुलिस दिल्ली के किसी भी हिस्से में सिर्फ एक 'मोबाइल कंट्रोल रूम' की मदद से उसकी लाइव तस्वीरों के साथ वहां मौजूद हर पुलिस वाले को संचार करने की ऐसी सुविधा उपलब्ध करा सकती है जब किसी भी सूरत में संचार या पुलिस को निर्देश देने में तकनीकी दिक्कत सामने सस्ती है. 

करीब 4 करोड़ में बनी इस बस में हर वो अत्याधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया गया है जो इसको बाकी बसों से अलग करती है. ये बस कई सारी टेक्नोलॉजी और इक्विपमेंट से लैस है. इस बस की खासियत यह है कि कहीं भी तनाव की स्थिति या कोई प्राकृतिक आपदा हो या आतंकवादी हमला हो  तो ये बस अलर्ट हो जाएगी. इस बस के अंदर कई सारे कंप्यूटर सिस्टम लगे हुए हैं जो पल-पल की मॉनिटरिंग करेंगे और संदेश का आदान-प्रदान भी कर सकेंगे चाहे जहां नेटवर्क न आता हो. 

इस बस में सीसीटीवी कैमरे भी लगे हुए हैं जोकि 450 मीटर का एरिया कवर कर सकते हैं और सीसीडी का आउटपुट बकायदा बस के अंदर बैठे अधिकारी समेत दिल्ली पुलिस मुख्यलय में बने सेंट्रल पुलिस कंट्रोल रूम में में दिखाई देगा.  वहां पर बैठ अधिकारी पूरी दिल्ली को वायरलेस, मोबाइल और सैटेलाइट फोन के जरिये निर्देश दे सकेंगे. 
इस हाइटेक मोबाइल कंट्रोल रूम की खासियत ये है कि इसके अंदर लगे एक खास सर्वर की मदद से ये बस हर उस जगह पर कम्युनिकेशन करने में कारगर है जहां पर सिग्नल नहीं आते. करीब दो दशक बाद दिल्ली पुलिस को मिले इस मोबाइल कंट्रोल रूम का इस्तेमाल दिल्ली पुलिस दिल्ली, यहां होने वाली बड़ी चुनावी रैली के दौरान ये जानने की कोशिश करेगी कि ये आधुनिक बस आने वाले वक्त में कितनी कारगर साबित होगी.