भोपाल। पूर्व चीफ सेक्रेटरी देवेन्द्र सिंघई नई दिल्ली की अध्यक्षता और सुरेश जैन वरिष्ठ आइ ए एस भोपाल के संयोजन में जस्टिस हाइ कोर्ट और डी जे आदि की उपस्थिति में ,एम पी नगर भोपाल के होटल अतिशय के सभागार में एक वृहद और भव्य स्वागत समारोह का आयोजन, हाल ही में मध्यप्रदेश से एक मात्र साहित्य के लिये सर्वोच्च अंलकरण पद्मश्री  प्राप्ति पर वरिष्ठ कवि कैलाश मड़बैया के सम्मान में सम्पन्न हुआ। पूर्व डी जे देवेन्द्र कुमार ने भी इस अवसर पर काव्य पाठ किया। आइ पी एस मलय और अनेक विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने कैलाश मड़बैया का मणिमालाओं ,चन्दन, साल, श्रीफल और साहित्य भेट कर मड़बैया दम्पत्ति का भरपूर सम्मान किया। वरिष्ठ प्रशासकीय अधिकारियों ने सर्व सम्मति कैलाश मड़बैया की इस असाधारण उपलब्धि पर न केवल औपचारिक बधाईयाँ दीं वरन् मड़बैया जी के छै दशकीय साहित्य सृजन यात्रा को रेखाकिंत भी किया। जस्टिस विमला जैन ने कवि मड़बैया के ग्रंथ ’सात समन्दर पार‘ , विनोद मोदी चीफ भोपाल विकास प्रधिकरण ने निबंध संग्रहों , रजिस्टार इंद्रजीत ने बुंदेली भक्तामर, उद्योग विभाग के हरीश ने, डी एफ ओ विनोद बुन्देली भाषा के अद्वितीय सृजन ,सुनीता ने ’चेहरा समय का‘ और अन्य लेखकों व साहित्यकारों ने अन्य अन्य काव्य रचनाओं पर प्रकाश डालते हुये इस पद्म श्री को जमीनी कार्य का वास्तविक राष्ट्यी अलंकरण निरुपित किया।    वरिष्ठ साहित्यकार कैलाश मड़बैया ने अपने सम्मान के प्रति सभी संस्थाओं, साहित्यकारों और वरिष्ठ अधिकारियों के प्रति आभार जताया और यह पद्म श्री सृजन को समर्पित की। आभार ज्ञापन चीफ इंजीनियर अशोक जैन ने किया।