नई दिल्ली: पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारतीय सेना ने जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के टॉप कमांडरों को मार गिराया है. न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, सूत्रों के हवाले से सोमवार को  कहा गया है कि जम्मू-कश्मीर में इस साल की शुरूआत से अबतक 66 आतंकियों को मार गिराया गया है. बताया जा रहा है कि इनमें से 27 दहशतगर्द पाकिस्तानी आतंकी संगठनों से जुड़े थे. इनमें से 19 आतंकियों को पुलवामा हमले के बाद भारतीय सेना ने ढेर किया है.
हमले से जुड़े सभी आतंकी ढेर
सूत्रों का कहना है कि पुलवामा हमले के 45 दिनों के भीतर इस हमले के जिम्मेदार सभी जैश आतंकियों को सेना ने ढेर कर दिया है. भारतीय सेना ने टेक्निकल और ह्यूमन इंटेलीजेंस के आधार पर चलाए गए आतंक विरोधी ऑपरेशन में यह सफलता पाई है. बताया जा रहा है कि इसमें जैश आतंकियों के प्रत्यर्पण और गिरफ्तारियां भी शामिल हैं. 
कश्मीर घाटी के 40 जैश समर्थकों से की पूछताछ
सूत्रों ने बताया कि पुलवामा हमले में सीधे तौर पर शामिल चार आतंकियों को सेना ने मार गिराया. साथ ही चार अन्य आतंकियों को अलग-अलग जगहों से गिरफ्तार किया गया. सूत्रों ने बताया कि भारतीय सेना ने कश्मीर घाटी में करीब 40 जैश समर्थकों से पूछताछ कर इन आतंकियों के बारे में जानकारी जुटाई थी. 

पाकिस्तान अपनी भूमिका पर डालना चाह रहा है पर्दा
सूत्रों का कहना है कि शीर्ष भारतीय सुरक्षा प्रमुख को लगता है कि पाकिस्तान द्वारा जम्मू-कश्मीर में अफगानिस्तान जैसी स्थिति और एक बड़े वैश्विक जेहादी नैरेटिव को पेश करके आतंकवादी गतिविधियों में अपनी भूमिका पर पर्दा डालने की कोशिश कर रहा है. बताया जा रहा है कि पुलवामा हमले से जुड़े दो आतंकियों निसार अहमद और सज्जाद को अभी भी एनआईए की कस्टडी में रखा गया है.

पाकिस्तानी आतंकी ने दी थी आईईडी
सूत्रों ने खुलासा करते हुए बताया कि निसार अहमद ने पुलवामा आतंकी हमला करने वाले आतंकी आदिल अहमद डार की मदद की थी. निसार ने पाकिस्तानी जैश आतंकी यासिर से आदिल को आईईडी दिलाने में मदद की थी.