भोपाल । मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सोमवार को विभिन्न सभाओं में मोदी सरकार पर तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा कि देशहित में बैंको सहित अन्य संस्थानों का पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्रीमती इंदिरा गांधी ने राष्ट्रीयकरण किया था। उन संस्थानों का पिछले पाँच साल में मोदी सरकार ने स्वहित में निजीकरण कर दिया। इससे देश में एक नए खतरे की शुरुआत हुई जिसके भयंकर परिणाम भुगतने होंगे। श्री नाथ आज कोयलांचल बैतूल के आमला में कांग्रेस के प्रत्याशी  राम टेकाम के समर्थन में विशाल चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे।
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि इंदिरा जी ने गरीबी हटाने और देश को ताकत देने के लिए बैंको, कोयला खदानों सहित कई क्षेत्रों में निजीकरण समाप्त कर राष्ट्रीयकरण किया था। जिसका लाभ देश को मिला। मोदी सरकार की निजीकरण नीति ने देश को न केवल कमजोर किया है बल्कि नोटबंदी जैसे फैसलों से बड़े पैमाने पर बेरोजगारी पैदा कर दी इससे देश की अर्थव्यवस्था के सामने गंभीर संकट खड़ा हो गया है। श्री नाथ ने कहा कि मेक-इन इंडिया, डिजिटल इंडिया, स्टार्टअप इंडिया का जो सपना मोदी जी ने इस देश को दिखाया था वह झूठा साबित हुआ। मोदी जी ने जो कहा उन्होंने पिछले पाँच साल के शासनकाल में उसे पूरा नहीं किया।
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश में पिछले 15 साल के भाजपा शासनकाल में जितने उद्योग लगे नहीं उससे अधिक बंद हो गए। कांग्रेस सरकार उद्योग जगत में प्रदेश में निवेश के लिये विश्वास का एक नया वातावरण बना रही है। उन्होंने कहा कि मेरी सरकार को काम करने के लिये आचार संहिता लगने तक सिर्फ 75 दिन मिले। हमारी सरकार ने इतने अल्प समय यह बताया कि काम करने की नियत और नीति क्या होती है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश की जनता ने मामा की सच्चाई को पहचाना था। उन्हें सत्ता से उखाड़ फेंका अब बारी है उस चौकीदार मोदी की जिन्होंने देश की जनता के साथ ठगी की। जनता उनकी इस सच्चाई को पहचाने और केंद्र से मोदी सरकार की विदाई करें।