नई दिल्ली  । गरीबी की वजह से लोगों के डीएनए पर प्रभाव पड़ सकता है। यह कहना है अध्ययनकर्ताओं का। अमेरिका में नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने यह पाया कि गरीबी का असर करीब 10 फीसदी तक जीन पर हो सकता है। हाल ही में आई रिसर्च में वैज्ञानिकों ने पाया है कि निम्न सामाजिक आर्थिक स्थिति करीब 1,500 से अधिक जीनों में बदलाव से जुड़ी हुई है। पहले के शो में यह सामने आया है कि सामाजिक-आर्थिक स्थिति (एसईएस) मनुष्य के स्वास्थ्य और बीमारी का गहरे रूप में निर्धारण करता है और सामाजिक गैरबराबरी वैश्विक स्तर पर लोगों को प्रभावित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. कम पढ़ाई-लिखाई और निम्न आय हृदय से जुड़ी बीमारियों, डायबिटीज, कैंसर और इंफेक्शन से होने वाली बीमारियों का खतरा रहता है।