नई दिल्ली । तकनीक और डिजिटलाईजेशन के इस दौर में अपने खातों को सुरक्षिक रखकर संचालित करने का काम आसान नहीं है। यूजर्स के पास कई ऑनलाइन अकाउंट होते हैं। इन ऑनलाइन अकाउंट को ऐक्सेस करने के लिए यूजर्स को एक यूजरनेम और एक पासवर्ड की जरूरत होती है। यूजर्स के लिए कई अकाउंट्स के पासवर्ड्स को याद रखना कभी-कभी काफी मुश्किल हो जाता है। इससे बचने के लिए ज्यादातर यूजर्स अपने मल्टिपल अकाउंट्स के लिए एक ही पासवर्ड रखते हैं। पासवर्ड को आसानी से याद रखा जा सके इसके लिए यूजर्स अनजाने में उन पासवर्ड का चुनाव कर लेते हैं जिसे हैकर्स द्वारा बड़ी आसानी से क्रैक किया जा सकता है।
हाल ही में यूके की नेशनल साइबर सिक्यॉरिटी सेंटर (एनसीएससी) ने एक डेटा जारी करते हुए बताया कि दुनियाभर में सबसे ज्यादा कॉमन पासवर्ड '123456' है और इसे काफी आसानी से हैक किया जा सकता है। दूसरे नंबर पर जिस पासवर्ड को रखा गया वह '123456789' है। साथ ही 'क्यूडब्ल्यूईआरटीवाई', '1111111' और 'पासवर्ड' को भी असुरक्षित पासवर्ड्स की सूची में ऊपर का स्थान प्राप्त हुआ है। रिसर्च में पाया गया कि 123456 पासवर्ड को यूज करने वाले यूजर्स की संख्या लगभग 2 करोड़ 30 लाख से भी अधिक थी जो बाकी के बताए गए पासवर्ड्स से काफी आगे है।
इसके अलावा पासवर्ड्स में जिन नामों का सबसे ज्यादा प्रयोग होता है उसमें एस्ले, मिरहैल, डेनियल, जेसिका और चार्ली सबसे आम हैं और ये हैकर्स द्वारा बिना किसी मुश्किल के हैक किए जा सकते हैं। रिसर्च में पाया गया कि कुछ यूजर्स फुटबॉल टीम, बैटमैन और सुपरमैन जैसे सुपरहीरो और पोकेमॉन जैसे कार्टून कैरेक्टर को भी अपना पासवर्ड बनाते हैं। अगर आप भी उन लोगों में से हैं जो इस प्रकार के पासवर्ड्स के जरिए अपने अकाउंट तो सेफ समझते हैं, तो अब आपको अलर्ट हो जाने की जरूरत है। एनसीएससी के टेक्निकल डायरेक्टर डॉ. इयान लेवी के अनुसार, जो लोग सबसे आम पासवर्ड इस्तेमाल करते हैं वे हैकिंग के लिए खुद को सबसे आसान शिकार बनाते हैं। हैक किए गए खातों के डेटाबेस की देखरेख करने वाले सिक्यॉरिटी एक्सपर्ट ट्रॉय हंट का कहना है कि ऑनलाइन सिक्यॉरिटी का एक मात्र उपाय है बेहतर पासवर्ड चुनना।