मुंबई । सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा के बचपन के कोच दिनेश लाड ने कहा है कि 2011 विश्व कप के लिए टीम में शामिल नहीं किये जाने के बाद ही रोहित बेहतर खिलाड़ी के तौर पर उभरे हैं। कोच ने कहा कि उसके बाद रोहित ने अपने खेल पर और ज्यादा ध्यान देना शुरू किया जिसका परिणाम सामने है। रोहित ने विश्व कप में अब तक दक्षिण  अफ्रीका और पाकिस्तान के खिलाफ दो शतक लगाये हैं जबकि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अर्धशतक लगाया था। दोनों मैचों में भारतीय टीम को बड़ी जीत मिली। लाड ने कहा, ‘मैंने उसे बचपन से ही बल्लेबाजी करते हुए देखा है उसमें काई बदलाव नहीं आया है। उसमें सिर्फ यह बदलाव आया है कि अनुभव के साथ वह ज्यादा परिपक्व हो गया है।’ लाड ने कहा, ‘रोहित ने 2007 से 2009 तक अच्छा खेल दिखाया और जिम्बाब्वे के खिलाफ दो शतक भी लगाए लेकिन इसके बाद 2009 से 2011 तक उसका ध्यान भटक गया जिससे उसने खेल पर ध्यान देना कम कर दिया। इसी कारण वह 2011 विश्व कप की टीम में जगह नहीं बना सका।’ लाड ने कहा, ‘उसके लिए यह काफी बड़ा झटका था। मैंने उसे अपने घर बुलाया और कहा कि आप अभी जहां है वह सिर्फ क्रिकेट की वजह से है लेकिन अब आपका ध्यान क्रिकेट पर नहीं है, इसलिए मैं आपसे अभ्यास करने कह रहा हूं।’ मैंने रोहित से कहा कि विराट कोहली बाद में आने के बाद भी विश्व कप टीम में जगह बनाने में सफल रहा है। इसलिए अब तुम्हें अपने खेल पर ध्यान देना होगा। इसके बाद रोहित ने गंभीर रुख अपनाया और उसका लाभी उन्हें मिला है।