धमतरी। जिले के सभी पशुपालकों का पंजीयन अब न सिर्फ सरलता से होगा, बल्कि पशुपालकों की जानकारी मोबाइल एप में संकलित होगी। इस एप के जरिए पशुओं से संबंधित बीमारी, समस्या, उपचार तथा विभाग की अद्यतन जानकारियां सीधे तौर पर पशुपालकों को मिलेगी। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने विगत 07 जून को धमतरी प्रवास के दौरान ‘धमतरी गौठान- पशु मितान‘ नामक एप का शुभारम्भ किया। उन्होंने जिले के पशुपालकों को इसकी बधाई देते हुए कहा कि सुराजी गांव योजनांतर्गत प्रदेश का सर्वाधिक महत्वाकांक्षी अभियान नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी की यह महत्वपूर्ण कड़ी है। इस हाइटेक सेवा से पशुधन विकास के क्षेत्र में क्रांतिकारी परिवर्तन आएगा।
धमतरी गौठान-पशु मितान एप के माध्यम से प्रत्येक पशुपालक की एक विशिष्ट पहचान संख्या (आई.डी. नंबर) होगी। कलेक्टर श्री रजत बंसल के निर्देशानुसार पशुधन विकास विभाग तथा एन.आई.सी. के सहयोग से इस एप को तैयार किया गया है। डी.आई.ओ. ने बताया कि एप में दर्ज की जाने वाली सभी जानकारियां पशुधन विकास विभाग को उपलब्ध हो जाएगी। इसके जरिए पशुपालक अपने पालित पशुओं में होने वाली बीमारियों, बीमारी के लक्षण के अलावा इसके समुचित उपचार व सावधानी के बारे में भी अवगत हो सकेंगे। साथ ही पशुओं को लगने वाले टीके और उनकी आवश्यकताओं के बारे में विभाग को जानकारी भेजी जा सकती है। इसके अलावा गाय के कृत्रिम गर्भाधान, गर्भ परीक्षण, वत्सोत्पादन, बधियाकरण, टीकाकरण की समस्त प्रक्रिया व रिपोर्टिंग आसानी से की जा सकेगी और इस दौरान लिए जाने वाले फॉलोअप व आवश्यकतानुसार उपचार करने भी आसानी होगी। डीआईओ ने एप के फंक्शन के बारे में बताया कि इसमें प्रत्येक पशु को टैग नंबर अलॉट किया जाएगा, जो कि भारत सरकार के लाइवस्टॉक सेन्सस के अनुरूप होगा। इसके माध्यम से कृत्रिम गर्भाधान में प्रयुक्त होने वाले बुल सीमेन की आईडी को भी संकलित किया जा सकता है, जिसके जरिए होने वाले वत्सोत्पादन को मॉनिटर किया जा सके। अब जिले के पशुपालक इस मोबाइल एप के जरिए न सिर्फ तकनीकी रूप से विकसित होंगे, बल्कि अब उन्हें सभी आवश्यक व वांछित जानकारियां एक क्लिक से मिल जाएंगी।