अलीगढ़ ।  मण्डलायुक्त अजय दीप सिंह ने आज यहां कमिश्नरी सभागार में अपर आयुक्त शमीम अहमद खान के साथ खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग की समीक्षा करते हुए कहा कि आम नागरिकों को खाद्य पदार्थ, दूध से बने उत्पाद शुद्ध रूप में प्राप्त हो सके इसके लिये मिलावटखोरों के विरूद्ध अभियान चलाकर प्रवर्तन की कार्यवाही की जाए। उन्होंने सभी एफएसओ को निर्देश देते हुए कहा कि प्रत्येक माह कम से कम 40 दुकानों व प्रतिष्ठानों का निरीक्षण किया जाए एवं निरीक्षण रिपोर्ट गार्ड फाइल में लगाते हुए मुझे भी अवगत कराया जाए। उन्होंने ड्रग इंस्पेक्टरों को भी निर्देशित करते हुए कहा कि मरीजों को सही दवाएं उपलब्ध हो सकें इसे सुनिश्चित करने के लिए अधोमानक एवं नकली दवा विक्रेताओं, थोक विक्रेताओं तथा दवा बनाने वाले प्रतिष्ठानों के विरूद्ध प्रवर्तन की कार्यवाही की जाए। निजी अस्पतालों पर भी छापे डाले जाएं। डीएम ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि दुकानों के पंजीकरण एवं लाइसेंस उपलब्ध कराने हेतु प्रचार-प्रसार करते हुए तहसीलों में कैम्प का आयोजन किया जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि प्रत्येक माह जिलाधिकारी की अध्यक्षता में बैठक का आयोजन कर आमजन को शुद्ध एवं मानक के अनुरूप खाद्य पदार्थ एवं औषधि उपलब्ध कराने हेतु कार्ययोजना तैयार की जाए। उन्होंने कहा कि निरीक्षण के दौरान नमूने संग्रहित करते हुए प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजा जाए तथा असुरक्षित घोषित नमूनों की रिपोर्ट प्राप्त होने पर सम्बन्धित के विरूद्ध वाद दायर किये जाएं। दायर वादो में बेहतर पैरवी कर दोषियों को सजा एवं उनसे अर्थदण्ड वसूल कराए जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि विभागीय अधिकारियों के वाट्स एप ग्रुप बनाकर निरीक्षण, प्रवर्तन की कार्यवाही तथा पंजीकरणध्लाइसेंस की सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जाए। सभी अधिकारी व कर्मचारी अपने कार्यालयों में समय से उपस्थित रहकर अपने दायित्वों का निर्वहन करें। उन्होंने बताया कि 12 लाख से ऊपर सालाना टर्नओवर वाले दुकानदारों को लाइसेंस तथा उससे कम वालों को पंजीकरण कराना आवश्यक है। पंजीकरण एवं लाइसेंस हेतु प्राप्त आवेदन पत्रों का निस्तारण एक माह के अन्दर कर दिया जाए।