नई दिल्ली । भारत सरकार ने ईरान के ऊपर से भारतीय विमान नहीं गुजारने का फैसला किया है, इसके पूर्व बालाकोट हमले के बाद पाकिस्तान के एयर स्पेस का इस्तेमाल पहले से ही बंद है। इस स्थिति के कारण अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के लिए यात्रियों को 2 से 3 घंटे का ज्यादा समय लग रहा है। वहीं 2000 किलोमीटर की अतिरिक्त यात्रा होने के कारण यात्रियों को हजारों रुपया टिकट के रूप में अतिरिक्त चुकाना पड़ रहे हैं।
अमेरिका और ईरान के बीच उत्पन्न तनाव को देखते हुए विमानन नियामक ने भारतीय एयरलाइंस कंपनियों की उड़ाने ईरान के आसमान से प्रतिबंधित कर दी हैं, इसके बोल बालाकोट हमले के बाद पाकिस्तान के आसमान से जाने वाली सभी भारतीय विमानों को गुजरात के ऊपर से अरब सागर पार करते हुए अन्य देशों में जाना पड़ रहा है, जिसके कारण यात्रियों को 2 से 3 घंटे का अतिरिक्त समय लग रहा हैं, वही टिकट भी महंगी हो गई हैं। विमानन कंपनियों को ज्यादा फ्यूल भराना पड़ रहा है। उल्लेखनीय हैं अंतर राष्ट्रीय मार्ग में एयर इंडिया के बोइंग विमान उड़ान भरते हैं, अरब सागर के ऊपर से विमानों की उड़ान भरने से लगभग 2000 किलोमीटर का अतिथि सफर एयरलाइंस के विमानों को करना होता है। लगभग 6 करोड़ रुपयों का अतिरिक्त खर्च विमानन कंपनियों को उठाना पड़ रहा है इसकी भरपाई करने के लिए विमानन कंपनियों ने किराया बढ़ा दिया है।