इन्दौर । दुनिया के 80 देशों में 10 करोड़ लोगों के लिए नौकरियां उपलब्ध होने वाली हैं। इनमें से 8.30 करोड़ युवा भारत से अन्य देशों में जाएंगे। पहले की शिक्षा पद्धति में 65 ब्रांचेस थी लेकिन अब इनकी संख्या लगभग 500 तक पहुंच गई है। देश में करीब एक करोड़ लोग अगले कुछ समय में स्कील डेवलेपमेंट से रोजगार और नौकरी प्राप्त कर सकेंगे।
अन्नपूर्णा क्षेत्र अग्रवाल महासंघ द्वारा आज सुबह नरेंद्र तिवारी मार्ग स्थित महाराजा यशवंतराव विद्यालय पर प्रख्यात शिक्षाविद डॉ. जयंतीलाल भंडारी ने उक्त बातें बताई। उन्होनें कहा कि यदि आने वाले समय में देश के विद्यार्थी यदि एक मुटठी में पर्याप्त डिग्रियां एवं कौशल विकास सीखने के साथ दूसरी मुटठी में अपना स्किल डेवलपमेंट वाला कार्यक्रम रखता हैं तो उसे नौकरी की कोई कमी नहीं रह सकती। कक्षा नौवीं तक बच्चों को पढ़ने और करयिर बनाने में यहीं आधार वर्ष माना गया है इसलिए बच्चों और अभिभावकों को बच्चों का भविष्य तय करने में कोई जल्दबाजी नहीं करना चाहिए। डॉ. भंडारी के सहयोगी कींजिक पंचोली ने भी कक्षा 9वीं से 12वीं तक के बच्चो तक के लिए उपयोगी जानकारियां दी। सेमिनार में डॉ. भंडारी एवं पंचोली ने छात्रों को उनके भविष्य से जुड़े सवालों पर प्रभावी ढंग से मार्गदर्शन दिया और करियर के लिए उपयोगी जानकारियां भी दी।  
 महासंघ के अध्यक्ष सुरेश गुप्ता, नरेश अग्रवाल एवं मुकेश ब्रजवासी ने बताया कि सेमिनार में अन्नपूर्णा क्षेत्र के विभिन्न स्कूलों के 300 से अधिक विद्यार्थी शामिल हुए। अनेक बच्चो के साथ उनके माता-पिता भी आए थे और उन्होने भी अपने बच्चो के लिए करियर संबंधी जिज्ञासाओं का समाधान प्राप्त किया। महासंघ के संरक्षक किशोर गोयल, मनोज अग्रवाल, विष्णु गोयल, शिव गर्ग आदि ने प्रारंभ में अतिथियों का स्वागत किया। महाराजा अग्रसेन के चित्र पूजन के साथ सेमिनार का शुभारंभ हुआ। संचालन सुधीर अग्रवाल ने किया और आभार माना संजय गोयनका ने।
लगभग तीन घंटे चले इस सेमिनार में छात्रों और पालकों ने अपने भविष्य से जुड़ी अनेक जानकारियां भी प्राप्त की और इस सार्थक आयोजन के लिए अन्नपूर्णा क्षेत्र अग्रवाल महासंघ के प्रति आभार भी व्यक्त किया। अध्यक्ष सुरेश गुप्ता ने कहा कि महासंघ ने अपने क्षेत्र के समाजबंधुओं और छात्र-छात्राओं के लिए यह अभिनव प्रकल्प प्रारंभ किया है। अगले चरण में बड़े स्तर पर स्वास्थ्य शिविर का आयोजन भी प्रस्तावित है।