कोलकाता । चाय बागानों के लिए मशहूर असम में चाय बोर्ड ने असम चाय क्लस्टर को ध्यान में रखते हुए जोरहाट में एक अलग इलेक्ट्रॉनिक नीलामी मंच (ई-नीलामी प्लेटफॉर्म) तैयार करने की पहल शुरू की है। इसका उद्देश्य एक नया ई-बाजार तैयार करना है। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इस नीलामी मंच के पास केंद्रीय भंडारण और लॉजिस्टिक्स जैसी सहायक सेवाएं भी उपलब्ध होंगी। चाय बोर्ड के डिप्टी चेयरमैन एके रे ने कहा कि इस प्रस्तावित ई-मार्केटप्लेस से देशभर के द्वितीय और तृतीय खरीदारों के एक मंच पर आने की उम्मीद है। इस मंच को एमजंक्शन सर्विसेज तैयार करेगी। रे ने कहा कि चाय बोर्ड ने ई-नीलामी के संबंध में कुछ नीतिगत सुधारों के लिए आईआईएम बेंगलूरू के साथ बातचीत की है। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि छोटे उत्पादकों के उत्पादन बढ़ाने से बड़ी कंपनियों को दिक्कत हुई है क्योंकि इनकी लागत ज्यादा बैठती है। अधिकारी ने कहा कि बोर्ड ने चाय अवशेष के निर्यात को मंजूरी देने का भी फैसला किया है। जिस पर अभी तक रोक थी। उन्होंने कहा कि इसके अलावा बाजार में कम गुणवत्ता वाली चाय की उपलब्धता को भी कम किया जाएगा।