पुंडलिक भगवान विष्णु का अनन्य भक्त था और श्रीहरि के दर्शनों की ईच्छा रखता था। इसके लिए वह हर तरह के जतन पूजा-पाठ, जप-तप और यज्ञ- अनुष्ठान करता रहता था। पुंडलिक की भक्ति से प्रसन्न होकर एक बार भगवान विष्णु उसके घर पर उसको दर्शन देने के लिए पहुंचे। उस समय पुंडलिक अपने माता-पिता की सेवा कर रहा था। वह अपने माता-पिता की सेवा में इतना तल्लीन था कि उसको भगवान के आने का पता नहीं चला। तब भगवान ने स्वयं उसको अपने आने की सूचना दी। पुंडलिक ने भगवान का स्वागत करने की बजाय भगवान के लिए एक ईंट रख दी और उनसे इंतजार करने को कहा। उसने उस वक्त यह जानने की कोशिश भी नहीं की कि दरवाजे पर कौन आया है। माता-पिता की सेवा में सारी रात बीत गई और सवेरा हो गया। नगर के लोग अपनी दिनचर्या के लिए घरों से निकल गए। इस समय रातभर से अपने भक्त को दर्शन देने के लिए खड़े भगवान विष्णु ने अपने आपको मूर्ति के रूप में परिवर्तित कर लिया। पुंडलिक की माता-पिता की सेवा से श्रीहरि इतने प्रसन्न हुए की उन्होंने स्वयं को मूर्ति रूप में परिवर्तित कर पुंडलिक के घर में निवास करने का निश्चय कर लिया।