रतलाम/इन्दौर । पश्चिम रेलवे द्वारा रतलाम में आयोजित की गई सांसदों की बैठक में इन्दौर को ढेर सारी सौगाते मिलने का रास्ता साफ हो गया है। सांसद शंकर लालवानी द्वारा किए गए प्रयास से रेल सेवाओं के विस्तार पर सहमति बन गई है। इसके साथ ही इन्दौर और भोपाल के बीच नॉनस्टॉप इंटरसिटी एक्सप्रेस चलाने के प्रस्ताव का भी परीक्षण करने पर भी सहमति बनी। 
अतिवृष्टि का कहर झेल रहे उज्जैन संभाग के रतलाम में पश्च‍िम रेलवे के मंडल मुख्यालय के डीआरएम कार्यालय में सोमवार सुबह मंडल के अंतर्गत आने वाले संसद सदस्यों के साथ पश्चिम रेलवे महाप्रबंधक ए.के. गुप्ता, मंडल रेल प्रबंधक आर.एन. सुनकर की उपस्थ‍िति‍ में बैठक हुई। बैठक में संसद सदस्यों ने अपने-अपने क्षेत्र के मामले उठाए। अधिकारियों ने कहा कि हर कार्य प्राथमिकता से किया जा रहा है। बैठक में करीब 10 सांसद पहुंचे। इनमें केंद्रीय मंत्री डॉ. थावरचंद गेहलोत, गुजरात से राज्यसभा सदस्य नारायण भाई राठवा, इंदौर सांसद शंकर लालवानी, रतलाम सांसद जी.एस. डामोर आदि शामिल थे। साथ ही कुछ सांसदों व राज्यसभा सदस्यों के प्रतिनिधि इस बैठक में उपस्थ‍ित थे। इस बैठक में इन्दौर के सांसद लालवानी ने अमरकंटक एक्सप्रेस को इन्दौर तक विस्तारित करने का प्रस्ताव रखा ताकि इन्दौर का सीधा संपर्क रायपुर और दुर्ग के साथ जुड़ सकें। इस प्रस्ताव पर बैठक में सहमति बनी है। इसके अलावा इन्दौर से चलने वाली शिप्रा एक्सप्रेस को प्रतिदिन किए जाने का प्रस्ताव भी बैठक में रखा गया इस पर भी सहमति की स्थिति रही है। इन्दौर लिंगमपल्ली एक्सप्रेस को भोपाल होते हुए चलाने का प्रस्ताव बैठक में रखा गया, जिसे मंजूरी दी गई और यह मामला समय सारणी समिति को भेजने का फैसला लिया गया। लालवानी के द्वारा इन्दौर से भोपाल के बीच नॉनस्टॉप इंटरसिटी एक्सप्रेस चलाने का प्रस्ताव रखा गया, जिसे परीक्षण के लिए भेजने का फैसला हुआ है। इसके अलावा लालवानी के द्वारा इन्दौर से मुंबई और दिल्ली के लिए तेज गति की हमसफर एक्सप्रेस की मांग की गई। इस पर भी विचार का आश्वासन बैठक में दिया गया है।
:: इन्दौर से रेल सेवाओं के विस्तार पर बनी सहमति :: 
सोमवार को रतलाम में पश्चिम रेलवे द्वारा अपने क्षेत्र के सभी सांसदों की बैठक आयोजित की गई थी। यह बैठक हर वर्ष आयोजित की जाती है। इस बैठक में इन्दौर के सांसद शंकर लालवानी ने इन्दौर की रेल सुविधाओं के विस्तार पर जोर दिया। उन्होंने कुछ रेलों का विस्तार करने और कुछ नई रेल चलाने के बारे में इस बैठक में प्रस्ताव रखा। इस बैठक में सबसे प्रमुख मुद्दा इन्दौर दाहोद रेल लाइन का था। इस मुद्दे को सामने रखते हुए लालवानी ने कहा कि केंद्र सरकार के द्वारा इस रेल लाइन के निर्माण के लिए पर्याप्त राशि का प्रावधान इस बार बजट में किया गया है। ऐसे में अब यह आवश्यक है कि मध्य प्रदेश सरकार के द्वारा इस रेल लाइन के लिए भूमि अधिग्रहण की कार्रवाई को तेजी से किया जाए। जब तक भूमि का अधिग्रहण नहीं होगा तब तक रेल लाइन बिछाने का काम नहीं हो सकता है । उन्होंने राउ और टिहि तक किए गए रेल विद्युतीकरण के प्रस्ताव को मंजूरी दिए जाने के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि इस कार्य से पीथमपुर क्षेत्र से माल का परिवहन तेजी से शुरू हो सकेगा। पश्चिम रेलवे के द्वारा नीमच और चित्तौड़ के बीच विद्युतीकरण का कार्य किए जाने के परिणाम स्वरूप लालवानी के द्वारा इस बैठक में कहा गया कि इन्दौर उज्जैन नागदा रतलाम चित्तौड़ फतियाबाद के बीच मेमू ट्रेन चलाई जाए । यह ट्रेन मध्य प्रदेश से राजस्थान तक चलेगी। इससे इस क्षेत्र में आवाजाही करने वाले नागरिक तेज गति से अपने सफर को कर सकेंगे।
:: बैठक में ये प्रस्ताव भी आए :: 
- 11126 ग्वालियर-रतलाम ट्रेन व 21126 भिंड-रतलाम ट्रेन को नीमच तक चलाने का प्रस्ताव। 
- इंदौर दिल्ली सराय रोहिल्ला ट्रेन को सप्ताह में तीन दिन चलाने का प्रस्ताव।  
- 59342 बीना-नागदा ट्रेन को रतलाम तक चलाने का प्रस्ताव।  
- मेमू ट्रेन को डॉ. अंबेडकर नगर (महू) से रतलाम तक चलाने के बाद फ्री हुए डेमू रैक को इंदौर-उज्जैन-नीमच चलाने का प्रस्ताव।  
- रतलाम स्टेशन यार्ड स्थित डाट की पुलिया को नया बनाने का प्रस्ताव।  
- रतलाम बीना व रतलाम उज्जैन पैसेंजर ट्रेन में सामान्य श्रेणी की 2-2 बोगी बढ़ाने का प्रस्ताव।  
- जावरा ताल आलोट के बीच रेल लाइन का नया सर्वे करने का प्रस्ताव।