खनिज साधन मंत्री श्री प्रदीप जायसवाल ने मंत्रालय में आयोजित विभागीय परामर्शदात्री समिति की बैठक में कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा बनाये गये रेत नियमों से राजस्व आय में वृद्धि होगी। उन्होंने समिति के सभी सदस्य विधायकों से आग्रह किया कि नये नियमों को वास्तविक स्वरूप में क्रियान्वित करने में सहयोग प्रदान करें। श्री जायसवाल ने बताया कि समिति द्वारा सदस्यों को पूरी जानकारी उपलब्ध कराई जायेगी और प्रदेश के विभिन्न स्थानों का भ्रमण भी कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि हर वर्ष समिति की त्रैमासिक बैठक होगी, जिसमें सदस्यों को विभागीय गतिविधियों से अवगत कराया जाएगा और सकारात्मक सुझाव प्राप्त कर उन पर अमल किया जाएगा। बैठक में सदस्य विधायक सर्वश्री कुँवर प्रद्युम्न सिंह लोधी, विक्रम सिंह, प्रदीप पटेल, नारायण पट्टा और महेश परमार ने क्रमश: अपने-अपने विधानसभा क्षेत्र के बारे में सुझाव दिये।

प्रमुख सचिव श्री नीरज मण्डलोई ने बताया कि नये रेत नियमों के क्रियान्वयन के बारे में किसी भी प्रकार की शिकायत मिलने पर शीघ्र कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि ब्लास्टिंग से होने वाले नुकसान को रोकने के लिये जिला कलेक्टर्स को निर्देश जारी किये जायेंगे। खनिज के क्षेत्र में नए रेत नियमों के अंतर्गत कार्य करने वाले ठेकेदारों से नवाचार के अंतर्गत विकास कार्य भी कराये जायेंगे। प्रमुख सचिव ने बताया कि कलेक्टर्स को नये नियमों का पालन करने के निर्देश जारी कर दिये गये हैं। संचालक श्री विनीत कुमार आस्टिन ने नये रेत नियम एवं गौण खनिजों के विषय में विस्तारपूर्वक बताया। सचिव श्री नरेन्द्र सिंह परमार सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।