मध्य प्रदेश में कक्षा आठ में पढ़ने वाली 14 वर्षीय आदिवासी लड़की ने आग लगाकर खुदकुशी कर ली. यह दिल-दहलाने वाली घटना मंगलवार शाम को बैतूल जिला मुख्यालय से 25 किलोमीटर की दूरी पर हुई. बताया जा रहा है कि गैंगरेप पीड़िता ने मिट्टी का तेल छिड़कर खुद को आग लगाई.

पीड़िता लड़की का एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है, जिसमें उसने गैंगरेप के लिए संदीप हसाने और उसके दो दोस्तों को जिम्मेदार ठहराया है. लड़की ने लिखा कि तीन महीने पहले बैतूल में किसी दफ्तर में उसके साथ दरिंदगी की गई थी. पीड़िता का आरोपी लगातार उत्पीड़न कर रहे थे. इतना ही नहीं, पीड़िता को आरोपी लगातार धमकियां दे रहे थे कि अगर उसने किसी से शिकायत की तो उसे जान से मार दिया जाएगा.

जिला पुलिस अधीक्षक डी. एस. भदौरिया ने सुसाइड नोट मिलने की पुष्टि की है. भदौरिया के मुताबिक पीड़िता लड़की ने मरने से पहले पुलिस को दिए बयान में दूसरे दो आरोपियों की पहचान नीतिश नगाले और अजय के तौर पर की.

पुलिस के मुताबिक पीड़िता ने अपने सुसाइड नोट में बताया कि कैसे उसके पिता की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में वो पहली बार आरोपी संदीप से मिली.

गैंगरेप पीड़िता को 95 फीसदी जली हुई हालत में नागपुर के एक प्राइवेट अस्पताल में ले जाया गया था. बुधवार सुबह उसे मृत घोषित किया गया. पुलिस ने दावा किया कि तीनों आरोपियों की तलाश में तीन पुलिस टीमों को भेजा गया था.

इस मामले में पुलिस ने आरोपी संदीप को अमरावती और आरोपी नीतिश को काल डोंगरी से गिरफ्तार कर लिया है. इसके अलावा तीसरे आरोपी अजय की तलाश की जा रही है. एसपी ने बताया, “हमने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. तीसरे को भी जल्दी पकड़ लिया जाएगा. गिरफ्तार दोनों आरोपियों से पूछताछ की जा रही है. हम फॉरेन्सिक सबूतों से जुड़ी जानकारी जुटा रहे हैं जिसे सक्षम जगह के साथ साझा किया जाएगा.”