झारखंड की राजधानी रांची में पिछले साल नवंबर में लॉ की छात्रा से हुए गैंगरेप के मामले में कोर्ट ने 11 आरोपियों को दोषी करार दिया। 12वें आरोपी के नाबालिग होने के कारण अभी कोर्ट ने फैसला नहीं दिया है। सोमवार को दोषियों को सजा सुनाई जाएगी। 26 नवंबर 2019 को रांची के कांके से लॉ छात्रा को अगवा कर गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया गया था। इस मामले में पुलिस ने 12 आरोपियों को गिरफ्तार किया था। प्रधान न्यायायुक्त नवनीत कुमार की अदालत में छह जनवरी से इस मामले की डे-टू-डे सुनवाई हो रही थी।

पांच फरवरी को पीड़िता ने इस केस में गवाही दी थी। गवाही के दौरान गैंगरेप की घटना को अंजाम देनेवाले सभी 12 आरोपियों की पहचान की थी। आरोपियों को जेल से ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोर्ट में पेश किया गया था।

गैंगरेप की घटना के बाद पीड़िता ने कांके थाना में 27 नवंबर को कांड संख्या 216/19 के तहत आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करवाई थी। घटना के दूसरे ही दीन पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। तब से सभी जेल में बंद हैं। अब सोमवार को सजा का ऐलान होगा। इस केस में कुलदीप उरांव, सुनील उरांव, संदीप तिर्की, अजय मुंडा, राजन उरांव, नवीन उरांव, अमन उरांव, बसंत कच्छप, रवि उरांव, रोहित उरांव एवं ऋषि उरांव जेल में दोषी ठहराए गए हैं।