विज्ञापनों के मामलों में निर्धारित मार्गदर्शी सिद्धांत का पालन करना होगा अनिवार्य 

       छतरपुर  विधानसभा निर्वाचन 2018 में छतरपुर जिले की विधानसभा क्षेत्रों में अभ्यर्थी, राजनैतिक दलों को चुनाव संबंधी विज्ञापन प्रकाशित कराने अथवा प्रसारित कराने के पहले यह सुनिश्चित करना होगा कि विज्ञापन में नैतिकता और शिष्टता हो तथा किसी की धार्मिक भावनाओं को ठेस न पहुुंचे। भारत निर्वाचन आयोग ने इस आशय के स्पष्ट मार्गदर्शी सिद्धांत बनाए हैं। 

मार्गदर्शी सिद्धांत के तहत कोई भी टीव्ही चैनल या केबल ऑपरेटर ऐसा विज्ञापन प्रसारित नहीं करेगा, जो नैतिकता, मर्यादा, संवेदनशीलता को चोट पहुुंचाता हो अथवा जो खराब, चौंकाने वाला,  घृणायुक्त एवं विद्रोह को जन्म देने वाला हो। ऐसा विज्ञापन जो किसी जाति,  वर्ग,  रंगमंच, संप्रदाय, राष्ट्रीयता का उपहास, मजाक बनाता हो, को अनुमति नहीं दी जाएगी, जो कि भारत के संविधान के प्रावधानों के विरूद्ध है। इसके अलावा किसी प्रकार से व्यक्तियों को अपराध, अव्यवस्था तथा हिंसा अथवा कानून तोड़ने को प्रेरित करता हो और हिंसा का गुणगान करता हो। ऐसे प्रकरणों में एमसीएमसी इन अवस्थाओं को ध्यान में रखते हुए कार्यवाही करेगी। 

जिला निर्वाचन अधिकारी एवं कलेक्टर श्री रमेश भण्डारी ने विधानसभा निर्वाचन 2018 के परिप्रेक्ष्य में यह स्पष्ट किया है कि विधानसभा क्षेत्र के उम्मीदवार और राजनैतिक दलों को आदर्श आचार संहिता के मार्गदर्शी सिद्धांत के अनुुरूप ही विज्ञापन प्रसारितध्प्रकाशित कराने की मांग प्रस्तुत की जाना चाहिए। 

श्री भण्डारी ने यह भी स्पष्ट किया है कि विज्ञापन में किए गए दावों और आरोपों की तथ्यात्मकता और सत्यता की पूरी जिम्मेवारी प्रकाशकध्विज्ञापन जारी करने वाले की ही होगी।   

राजेन्द्र कुमार रैक्वार 

दबंग मीडिया 

संवाददाता

Source ¦¦ DM news