तहसीलदार द्वारा की गई दो फर्मों पर जांच

खरीदी केन्द्रों में व्यापारियों की फसल की होती थी खपत

हरपालपुर। आमतौर पर सरकार की स्कीम से किसान को तब लाभ मिलता है जब वह अपने अनाज का स्टॉक कर सके। अब तक के अनुभव यह बताते हैं कि कई बार पैसे की जरूरत होने पर किसान अपना अनाज व्यापारियों को बेच देता है और फिर व्यापारी उसी किसान के सहारे शासन को अनाज देकर मोटी रकम अपने लिए कमा लेता है। पिछले कुछ दिनों से कलेक्टर के निर्देश पर इसी कमाई में ताला लगाने के लिए राजस्व अधिकारियों को गोदामों की छानबीन करने के निर्देश दिए गए हैं। बीती शाम नौगांव एसडीएम ने करीब एक करोड़ की कीमत के अनाजों से भरे गोदाम को सील किया था। गुरूवार को तहसीलदार ने हरपालपुर क्षेत्र में गोदामों की जांच की है।

नौगांव तहसीलदार भानुप्रताप सिंह, मण्डी सचिव शोभाराम विश्वकर्मा और अमले के साथ हरपालपुर में नए थाने के सामने स्थित श्रीराम टे्रडर्स व शांति दाल मिल में दोपहर 12 बजे पहुंचकर जांच की। यहां स्टॉक रजिस्टर देखने के साथ ही स्टॉक जांचा। यह जानने की कोशिश की कि जो अनाज रखा है क्या वह स्टॉक रजिस्टर में दर्ज है। कहीं ऐसा तो नहीं किसानों की आड़ में व्यापारियों की उड़द और मूंगफली खरीदी केन्द्रों में पहुंचाने की तैयारी की जा रही है। चूंकि इस समय यह खेल पूरे जिले में खेला जा रहा है। हर एसडीएम और तहसीलदार खरीदी केन्द्रों का निरीक्षण करने के बाद वेयर हाउसो को भी खंगाल रहे हैं ताकि स्थिति स्पष्ट हो सके। और राजू का हाथ है। पुलिस इन्हें गिरफ्तार करे।

राजेन्द्र कुमार रैकवार 

दबंग मीडिया

व्यूरोचीफ

Source ¦¦ DM news