कलेक्टर ने किया जिले के किसानों द्वारा की गई  शिकायतों की जांच के लिए 34 जांच दल गठित 

 

जांच दल 113 सेवा सहकारी समिति के किसानों को  ऋण सूची के अभिलेखों की जांच करेगा

 

बसीम खान

छतरपुर। जय किसान फसल ऋण माफी योजना के क्रियान्वयन में जिला केन्द्रीय सहकारी बैंकों में किसानों द्वारा की जा रही शिकायतों को कलेक्टर श्री मोहित बुंदस ने संज्ञान में लेते हुए छतरपुर जिले की सभी 113 सेवा सहकारी समितियों के फसल ऋण सूची में किए स्वीकृत ऋण में अभिलेखों की जांच के लिए 34 जांच दल गठित किए हैं। जांच दल में तीन-तीन अधिकारी-कर्मचारी रखे गए हैं। गठित दल संबंधित सेवा सहकारी समिति के अभिलेखों की जांच कर तीन दिन में जांच प्रतिवेदन कलेक्टर को अनिवार्य रूप से प्रस्तुत करेंगे। संबंधित अनुभाग के अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) जांच निरीक्षण दल के नोडल अधिकारी बनाए गए हैं। नोडल अधिकारी इस कार्य की सतत निगरानी करेगें और जांच दल को अपेक्षित मार्गदर्शन देंगे। 
 

एक जांच दल 2 से 5 सहकारी समिति का करेगा जांच

 
कलेक्टर द्वारा गठित जांच दल को न्यूनतम दो अधिकतम 5 सेवा सहकारी समिति के अभिलेखों की जांच करने का जिम्मा सौंपा गया है। सामान्यत: एक जांच दल तीन से चार सेवा सहकारी समितियों तक के अभिलेखों की जांच करेगा। जांच दल जिला केन्द्रीय सहकारी बैंक की सरवई शाखा के अंतर्गत एक मात्र सर्वाधिक 5 सेवा सहकारी समिति सरवई, चुरयारी, कौथेहा, नाहरपुर और पचवारा की समिति में जांच करेगा। 
 

जांच दल के कार्य 

 
जांच दल श्जय किसान फसल ऋण माफी योजनाश् में जिला केन्द्रीय सहकारी बैंकों में किसानों के कर्जमाफी के संबंध में ग्राम पंचायत स्तर पर किसानों द्वारा की गई शिकायतों की जांच करेगा। इनमें मुख्यत: वास्तविक ऋण से अधिक ऋण कृषक सूची में दर्शाया हो, ऐसे किसान जिन्होंने ऋण नहीं लिया पर उनके नाम फसल ऋण सूची में है या मृत कृषक के नाम पर फसल ऋण दर्शाए गए हैं। जांच दल संबंधित कृषि सहकारी समितियों में पहुंचकर अभिलेखों की बारीकी से जांच करेगा।