खजुराहो लोकसभा सीट से पुष्पेंद्र सिंह की उम्मीदवारी से मजबूत होगी भाजपा की स्थिति 

अपनी राजनैतिक  सूझबूझ व रणनीति से कई बार पार्टी के लिए संकटमोचक साबित हुए हैं पुष्पेंद्र

 

 

 

 

                              भूपेन्द्र सिंह  

छतरपुर- विधानसभा चुनाव में मामूली से अंतर से सत्ता गंवाने वाली भाजपा लोकसभा चुनाव में किसी भी तरह की गलती करने के मूड में नहीं दिखाई दे रही है जिसके लिए सबसे महत्वपूर्ण है उम्मीदवारों का सही चयन जिसको लेकर भाजपा में गहरा मंथन चल रहा है छतरपुर जिला एक ऐसा जिला है जहां तीन सांसदों का प्रतिनिधित्व होता है जिनमें खजुराहो दमोह और आरक्षित सीट टीकमगढ़ शामिल है,
 
             वर्तमान में इन तीनो ही सीटों पर भाजपा से सांसद चुनकर लोकसभा पहुंचे थे भाजपा नहीं चाहेगी कि इनमें से कोई भी सीट गवाई जाए, खजुराहो लोकसभा सीट से वैसे तो कई उम्मीदवार अपनी उम्मीदवारी दिखा रहे हैं लेकिन इनमें सबसे सशक्त और प्रभावशाली नाम जो उभर कर सामने आ रहा है वह है पुष्पेंद्र प्रताप सिंह गुड्डू का जिन्होंने अपनी राजनैतिक सूझबूझ और रणनीति से जिले में भाजपा को कई चुनाव जिताने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है भाजपा अगर पुष्पेंद्र प्रताप सिंह पर अपना दांव खेलती है तो टीकमगढ़ सहित खजुराहो लोकसभा में भाजपा को सीधा फायदा होता दिखाई दे रहा है।