छत्रसाल की वेशभूषा में दिखेगे 4 जिलों के 1 हजार बच्चे

छतरपुर। महाराजा छत्रसाल स्मृति शोध संस्थान छतरपुर एवं विद्या भारती महाकौशल प्रांत के संयुक्त तत्वावधान में 3 फरवरी को मऊसहानियां स्थित महाराजा छत्रसाल शौर्य पीठ पर एक अनूठा आयोजन किया जा रहा है। बुंदेलखंड में जन.जन तक महाराजा छत्रसाल की शौर्य गाथाओं के संस्कार पहुंचाने के लिए 4 जिलों के 1 हजार से अधिक बच्चे महाराजा छत्रसाल की वेषभूषा पहनकर यहां एकत्रित होंगे। इस अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ एक बाल मेले का आयोजन भी होगा।

मंगलवार को महाराजा छत्रसाल स्मृति शोध संस्थान और विद्या भारती के पदाधिकारियों ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस कार्यक्रम की संपूर्ण जानकारी पत्रकारों को दी। कार्यक्रम के प्रभारी एवं महाकौशल शिशु वाटिका के प्रांत प्रमुख प्रभात सिंह ने बताया कि विद्या भारती और संस्थान महाराजा छत्रसाल की कर्मभूमि से उनके संस्कारों को प्रत्येक परिवार तक पहुंचाने हेतु बुंदेलखंड के लाल घर.घर छत्रसाल उद्घोष के साथ सहस्त्र छत्रसाल कार्यक्रम का आयोजन कर रहा है। कार्यक्रम के अंतर्गत 3 फरवरी सुबह 11 बजे छतरपुरए पन्नाए टीकमगढ़ए निवाड़ी और लवकुशनगर के 1 हजार से अधिक स्कूली बच्चे महाराजा छत्रसाल की वेशभूषा में यहां एकत्रित होंगे। कार्यक्रम में 3 से 5 साल के बच्चों को विशेष पोशाकों के साथ उतारा जाएगा। तो वहीं 11वीं तक के बच्चे विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। इस कार्यक्रम में सरस्वती स्कूलों के साथ.साथ अन्य स्कूलों के बच्चे भी शामिल होंगे। सर्वप्रथम सहस्त्र छत्रसाल का एकत्रीकरण, तदोपरांत उनका पथ संचलनए एवं उसके बाद रंगमंच से जुड़े विभिन्न कार्यक्रम होंगे। कार्यक्रम के प्रभारी मुद्रिका द्विवेदी ने बताया कि उक्त कार्यक्रम में महापुरुषों से जुड़ीं कुछ प्रदर्शनियों को भी लगाया जाएगा तो वहीं बुंदेली लोकगीतों के माध्यम से महाराजा छत्रसाल की शौर्य गाथाएं तथा खेल कूद के कार्यक्रम भी होंगे। कार्यक्रम में शामिल बच्चों को पुरुस्कार एवं प्रशस्ति पत्र दिए जाएंगे। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के तौर पर विद्याभारती के प्रांत संगठन मंत्री डॉण् पवन तिवारी मौजूद रहेंगे। उक्त कार्यक्रम में समाज के सभी वर्गों एवं सभी राजनैतिक दलों के साथ.साथ बुंदेलखंड के प्रत्येक परिवार को आमंत्रित किया जा रहा है। कार्यक्रम का उद्देश्य 1 हजार बच्चों के माध्यम से 10 हजार लोगों तक महाराजा छत्रसाल का संदेश पहुंचाना है।

उक्त वक्ताओं के पूर्व महाराजा छत्रसाल स्मृति शोध संस्थान के सचिव राकेश शुक्ला राधे ने संस्थान द्वारा विगत 4 वर्षों से किए जा रहे कार्यों पर प्रकाश डाला और महाराजा छत्रसाल की शौर्य गाथाओं को जन.जन तक पहुंचाने में मीडिया की भूमिका को सराहा। कार्यक्रम में मौजूद संस्थान के अध्यक्ष भगवत शरण अग्रवाल ने भी उक्त कार्यक्रम की भूमिका पर जानकारी दी। इस अवसर पर संस्थान के उपाध्यक्ष धीरेन्द्र शिवहरे, सहसचिव जयदेव सिंह उपस्थित रहे। संस्थान की ओर से सुशील वैद्य ने आभार प्रदर्शन किया।

राजेन्द्र कुमार रैकवार

दबंग मीडिय

व्यूरोचीफ

Source ¦¦ DM news