नहाने के दौरान अचानक गड्ढे में जाने से हुआ हादसा

गढ़ीमलहरा। नगर के गढ़ी स्थित तालाब में दो भाई.बहिन की डूबने से मौत होने के कारण पूरे वार्ड में मातम छाया है। दोनों बच्चे भैसों को पानी पिलाने के लिए तालाब गए थे। भैसों को पानी में छोडऩे के बाद दोनों नहाने लगे तभी अचानक गहराई में जाने से वे डूब गए जिससे उनकी मौत हो गई।  पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू की है।

जानकारी के मुताबिक नगर के वार्ड नं.3 के रहने वाले दीनदयाल पटेल की 12 वर्षीय पुत्र आरती और 10 वर्षीय पुत्र नीरज भैसों को पानी पिलाने गढ़ी के रानीताल गए थे। उनके साथ पांच साल की छोटी बहिन स्मिता भी थी। सुबह करीब 9 बजे पानी पिलाने जाने के दौरान दोनों ने भैसों को तालाब में छोड़ा और दोनों नहाने लगे तभी अचानक गहरे गड्ढे में जाने की वजह से दोनों डूब गए। दोनों को डूबता देख स्मिता रोती हुई घर पहुंचीए कुछ ही देर में भैसें भी घर पहुंच गईं। नीरज और आरती के पिता दीनदयाल ने देखा कि भैसें आ गई हैं लेकिन बच्चे नहीं आएए स्मिता से भी जानकारी ली और तुरंत तालाब पहुंच गए। तालाब में बच्चे कहीं नजर नहीं आ रहे थेए स्मिता के बताए अनुसार बच्चों की तलाश की गई तो वे गहरे गड्ढे में डूबे थे। दोनों की लाशें बाहर निकाली गईं और पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने मौके पर आकर पंचनामा बनाया और लाश को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। एक ही घर के दो मासूम बच्चों की जान चली जाने से घर ही नहीं बल्कि पूरा वार्ड शोक में डूबा है। जिस वक्त यह हादसा हुआ उस समय तालाब में कोई नहीं था।

लोगों के मना करने के बाद भी परिषद ने खोदी खाईयां

नगर के लोगों का कहना है कि रानीताल में नगर परिषद द्वारा गहरे गड्ढे खोद दिए गए हैं। जिस समय यह खुदाई हो रही थी उस समय लोगों ने मना किया था कि तालाब में ऐसे गड्ढे न खोदे जाएं क्योंकि तालाब के किनारे ही गड्ढे खोदने से कभी भी हादसा हो सकता है। आखिरकार नगर के लोगों की आशंका सच साबित हुई और तालाब दो मासूमों की जलसमाधि का स्थल बन गया। नगर परिषद की घोर लापरवाही और अनदेखी के कारण लोगों को आज यह दुख देखने को मिला है।

Source ¦¦ DM news