छतरपुर-प्रदेश की कमलनाथ सरकार द्वारा अपने छह माह में किए कार्य की उपलब्धियां बताने के लिए आज छतरपुर जिले के कांग्रेस विधायकों द्वारा कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में पत्रकार वार्ता का आयोजन किया गया जिसमें कांग्रेस के तीन विधायक शामिल हुए जबकि कांग्रेस के ही एक विधायक ने इस प्रेस वार्ता से दूरी बना ली यहां कांग्रेस की गुटबाजी साफ नजर आई, जिले की स्थिति से अनभिज्ञ कांग्रेस के विधायक पत्रकारों के सवालों का जवाब नहीं दे पाए वही इस पत्रकार वार्ता से यह तो साबित हो गया कि सरकार कि 6 माह में ऐसी कोई उपलब्धि नहीं रही जो वह जनता के सामने बता सकें।

 

 जमीनी स्तर पर नही हुआ काम,सवालों जबाब देने पर बगले झांकने लगे विधायक

 

बैठक की शुरुआत कांग्रेस से राजनगर विधायक विक्रम सिंह नातीराजा द्वारा की गई उन्होंने बताया कि अभी सरकार को बने हुए 6 महीने हुए हैं इस बीच में मात्र 92 दिन ही सरकार को काम करने को मिले हैं उन्होंने बताया कि सरकार बनते ही मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा किसानों को कर्जमाफी कर राहत दी गई, बेटियों की शादी के लिए दी जाने वाली राशि को बढ़ा कर 51 हजार किया गया, इसी तरह बुजुर्गों को वृद्धावस्था पेंशन बढ़ाई गई, गौशालाओं का निर्माण कराए जाने वाली ऐसी कई योजनाओं के बारे में बताया जिनका अभी धरातल पर कार्य किया जाना शेष है।

 

 बढ़ते अपराध,बिजली कटौती, स्वास्थ संबंधी सवाल का नही दिया जबाब

 

राजनगर विधायक विक्रम सिंह नातीराजा से सवाल पूछा गया कि आपने सरकार की तमाम उन योजनाओं की जानकारी दी जो अभी धरातल पर नहीं है पर जिले में बढ़ती आपराधिक घटनाएं,बिजली कटौती,स्वस्थ संबंधित सुविधाओं की चर्चा नही की ईस पर उन्होंने कहा कि प्रदेश में अपराध का ग्राफ खड़ा है सरकार लगातार काम कर रही है परंतु जब उनसे जिले की आपराधिक घटनाओं के बारे में पूछा गया तो वह कुछ नहीं बोल पाए।

 

 कांग्रेस शासन में बड़ा रेत का अवैध कारोबार विधायकों के परिजनों पर लगे आरोप

 

छतरपुर जिले में रेत का अवैध व्यापार किस तरह से होता है या किसी से छुपा नहीं है जब सत्ता में भाजपा की सरकार थी तो स्थानीय भाजपा नेताओं से लेकर विधायकों ने किस तरह क्षेत्र की खनिज संपदा का दोहन किया है यह किसी से छुपा नहीं अब वही हाल कांग्रेस के शासन में भी दिखने लगा कांग्रेस जिला अध्यक्ष विधायक मनोज त्रिवेदी, महाराजपुर विधायक नीरज दीक्षित,बड़ामलहरा विधायक प्रद्युम्न सिंह लोधी के परिजनों के नाम सीधे रेत के अवैध कारोबार से जोड़े जा रहे हैं वही राज नगर विधायक विक्रम सिंह के करीबियों द्वारा रेत का अवैध कारोबार करने के आरोप लग रहा हैं ऐसे में जनता इन सत्ताधारी नेताओं से जनता क्या न्याय की उम्मीद करें।

 

 बड़ामलहरा विधायक की नही सुनती खाद्य अधिकारी स्वाति जैन

 

जिले के सहकारी बैंक के अंतर्गत आने वाली समितियों में हुए ऋण घोटाले की जांच अभी तक पूरी नहीं हो पाई जबकि छतरपुर कलेक्टर मोहित बुंदास द्वारा 3 दिन में जांच कर रिपोर्ट पेश करने की बात कही गई थी,यह घोटाला बड़ा मलहरा विधायक प्रद्युम्न सिंह लोधी के क्षेत्र में हुआ जहां कई ऐसे समिति प्रबंधक हैं जिनके यहां लोकायुक्त के छापे पड़ चुके जिसके बाद उन्हें हटा दिया गया था लेकिन खरीदी के ठीक पहले उन्हें पुनः समिति प्रबंधक का बना दिया गया जब इस पर उनसे सवाल पूछा गया तो उन्होंने बड़ा ही हास्यप्रद जवाब दिया विधायक ने कहा कि मैंने खाद अधिकारी स्वाति जैन को ऐसा ना करने की बात कही थी पर उन्होंने मेरी बात नहीं मानी,अब सवाल उठता है कि जब सत्ताधारी विधायक की बात एक अधिकारी नहीं सुन रहा तो जनता के कौन सुनेगा।

 

पत्रकार वार्ता में कांग्रेस विधायकों के बीच दिखा मतभेद,नहीं पहुंचे छतरपुर विधायक

 

वैसे तो कांग्रेस नेताओं के बीच मतभेद की खबरों का आना विधानसभा चुनाव के बाद ही शुरू हो गया था जो लोकसभा चुनाव में खुलकर दिखा, अब हालात यह है कि जो चीज पहले परदे के अंदर थी अब बाहर आ गई है प्रदेश सरकार ने अब नीचे माई की उपलब्धियां गिनाने के लिए पत्रकार वार्ता का आयोजन कराया जहां छतरपुर जिले के तीन विधायक विक्रम सिंह नातीराजा,नीरज दीक्षित और प्रद्युम्न सिंह लोधी मौजूद लेकिन छतरपुर विधायक आलोक चतुर्वेदी के इस महत्वपूर्ण पत्रकार वार्ता में ना आने पर कई तरह की चर्चाएं होती रही इस पर जब पत्रकार द्वारा विधायकों से सवाल किया गया कि आपके आपसी मतभेद के कारण छतरपुर विधायक इस पत्रकार वार्ता में शामिल नहीं है इस पर राजनगर विधानसभा सीट से कांग्रेस बनाएं विक्रम सिंह नातीराजा ने कहा कि हमारे बीच में कोई मतभेद नहीं है।