कांग्रेस ने 6 माह की कार्यकाल में सिर्फ तबादला उद्योग चलाया

 

भाजपा सरकार की जनहितकारी योजनाओ को किया बंद

 


छतरपुर- प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने अपने 6 मई की उपलब्धियां जलाने के लिए कल प्रदेशभर में प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की थी छतरपुर में हुई प्रेस कांफ्रेंस में अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाने में नाकाम रहे बल्कि सरकार की फजीहत करा कर इनके विधायक चले गए ऐसा ही कुछ हुआ मंगलवार को जब भाजपा ने पलटवार करने के उद्देश्य से एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भाजपा कार्यालय में आयोजित की जहां कांग्रेस की विफलताओं पर कम भाजपा नेताओं के बीच अंतर करें और कमजोर विपक्ष की भूमिका पर ज्यादा सवाल किए गए पूरी प्रेस कॉन्फ्रेंस में सिर्फ विधायक ललिता यादव ही सवालों का जवाब देती रहे जबकि भाजपा के पूर्व विधायक और पार्टी पदाधिकारी प्रेस कांफ्रेंस में मौजूद रहे।

 

 राजनीति की भेंट चढ़ता जा रहा स्वीकृत मेडिकल कॉलेज

 

पत्रकार वार्ता की शुरुआत में जिले के वरिष्ठ पत्रकार हरि अग्रवाल द्वारा मेडिकल कॉलेज का मुद्दा उठाया गया उन्होंने पूछा कि भाजपा सरकार द्वारा जिस जगह मेडिकल कॉलेज खोले जाने के लिए भूमि पूजन किया गया था उसे कांग्रेस विधायक और शासन बदलने जा रही है प्रदेश सरकार की पूर्व मंत्री ललिता यादव ने जवाब दिया कि शासन द्वारा 220 करो रुपए जारी किए जा चुके हैं इसके बाद भी यदि निजी स्वार्थों के चलते छतरपुर विधायक मेडिकल कॉलेज अन्य स्थान पर ले जाना चाहते हैं तो हम इसका विरोध करेंगे और शासन चाहे तो जिस जगह मेडिकल कॉलेज खोला जाना है उस जगह से अवैध रूप से कब्जा किए लोगों को हटा सकता है लेकिन कांग्रेस सरकार ऐसा नहीं करना चाहती अब सवाल उठता है कि यदि भाजपा और कांग्रेस की राजनीति के बीच यदि मेडिकल कॉलेज जैसे अहम मुद्दे को फस  जाए तो मेडिकल कॉलेज कैसे खुलेगा।

 


क्या आपसी गुटबाजी की वजह से भाजपा का विधानसभा में हुआ पूरा हश्र?


भाजपा नेताओं से पूछा गया कि  राजनगर, छतरपुर,और महाराजपुर ऐसी विधानसभा सीटें थी जहां भाजपा नेता केवल अपनी आपसी गुटबाजी के कारण ही हारे हैं इसमें से बमुश्किल ही चंदला विधानसभा सीट भाजपा जिले से जीत पाई जबकि इन्हीं विधानसभा सीटों से लोकसभा चुनाव में पार्टी उम्मीदवार पचास हजार से अधिक वोटों से मिले, उस पर ललिता यादव ने जवाब देते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव राष्ट्रीय मुद्दों और नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में लड़ा गया इसलिए इसके परिणाम अलग है जबकि विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार स्थानीय और स्थानीय मुद्दे होते हैं जिस कारण कई बार मतभेद उभर कर सामने आते हैं मुझे स्वयं टिकट गलत जगह से दिया गया। इस वजह मुझे हार का सामना करना पड़ा पार्टी अधिक जिले में सही टिकट वितरण करती तो निश्चित रूप से आज तस्वीर कुछ और होती है लेकिन सवाल उठता है जब लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता के आधार पर लोगों ने वोट दिया तो वही नरेंद्र मोदी विधानसभा चुनाव में छतरपुर प्रचार करने के लिए आए थे क्या 3 महीने में ही उनकी लोकप्रियता बढ़ी है।

 


रेत कारोबार को लेकर कांग्रेस विधायकों पर लगाए आरोप,अपने विधायक का किया बचाव


यह बात किसी से छुपी नहीं जब भाजपा सत्ता में थी तो चंदला विधानसभा सीट से पूर्व विधायक आरडी प्रजापति और पूर्व में जिला पंचायत अध्यक्ष रहे राजेश प्रजापति द्वारा बेतहाशा रेत का अवैध कारोबार किया गया लोगों ने जनप्रतिनिधि काम बल्कि वेद व्यापारी सच कहने लगे थे, वही हाल अब कांग्रेस विधायकों का को चलाएं भाजपा नेता अरविंद पटेरिया ने आरोप लगाए हैं कि राजनगर क्षेत्र में विधायक विक्रम सिंह नातीराजा द्वारा रेत का अवैध कारोबार कराया जा रहा है वहीं नौगांव क्षेत्र में नीरज दीक्षित के परिजन और चंदला क्षेत्र में बड़ा मलहरा विधायक प्रद्युम्न सिंह लोधी व कांग्रेस जिला अध्यक्ष मनोज त्रिवेदी के करीबी शामिल है, परंतु जब अरविंद्र पटेरिया से पूछा गया कि चंदला की परी रेत खदान में आप के विधायक राजेश प्रजापति भी रेत का अवैध कारोबार कांग्रेस के साथ मिलकर कर रहे हैं तो इस पर उन्होंने चुप्पी साध ली और कोई जवाब नहीं दिया।