लाखो की जमीन धोखाधड़ी कर बेची, कोर्ट ने तीन पर 420 का मामला दर्ज किया


छतरपुर। कम्प्यूटर फीडिंग के दौरान सरकारी रिकाॅर्ड में दूसरे व्यक्तियो का नाम गलत दर्ज होने का फायदा उठाकर लाखो की जमीन बेचने के मामले में कोर्ट ने आदेश दिया है। न्यायाधीश सोनाली शर्मा की अदालत ने फर्जीवाड़ा करने वाले तीन आरोपियो के खिलाफ 420 का मामला दर्ज किया है। 
एडवोकेट लखन राजपूत ने बताया कि सबनीगर मोहल्ला निवासी रियाज मोहम्मद ने कोर्ट में मामला पेश किया था कि उसके भाई ताज मोहम्मद को हल्के यादव निवासी बछरौनिया ने जमीन बेचने के लिए खसरा नंबर 128/6 रकवा- 2.023 हेक्टेयर मौजा बछरौनिया जिला छतरपुर की भू अधिकार ऋण पुस्तिका एवं खसरे की नकल दिखाई थी। जिन पर विश्वास करके ताज मोहम्मद जमीन खरीदने के लिए सहमत हुआ था। 26 जून 2015 को हल्के यादव, रतीबाई यादव और रामकिशोर यादव ने रजिस्ट्रार कार्यालय जाकर उक्त जमीन विक्रय पत्र लेख कराकर पांच लाख रुपए में ताज मोहम्मद और अन्य लोगों को बेंच दी थी। बाद में ताज मोहम्मद को पटवारी से पता चला कि उक्त जमीन का मालिक कोई ओर है। हल्के यादव बगैरह ने उसके साथ धोखाधड़ी की है। न्यायाधीश सोनाली शर्मा की कोर्ट ने मामले का अवलोकन किया और पाया कि उक्त जमीन पहले सरकारी रिकाॅर्ड में हल्के यादव बगैरह के नाम दर्ज थी। नायब तहसीलदार के न्यायालय ने 2 अगस्त 2016 को आदेश पारित किया था जिसमें हल्के बगैरह को उक्त जमीन का मालिक नही है। वास्तविक स्वामी भवानीदीन, दीनदयाल, दिविया, घंसू, धन्नी, पंचम बगैरह है। कम्प्यूटर फीडिंग के दौरान उक्त जमीन के संबंध में सरकारी रिकाॅर्ड मंे हल्के बगैरह का नाम त्रुटि के कारण दर्ज हो गया था। इस बात की जानकारी हल्के बगैरह को थी फिर भी उन्होने इसे छिपाते हुए जमीन बेंची है। न्यायाधीश सोनाली शर्मा की कोर्ट ने हल्के पिता सईया यादव, रतीबाई पत्नी दियाला यादव और रामकिशोर पिता दियाला यादव के खिलाफ संज्ञान लेकर आईपीसी की धारा 420 के तहत मामला दर्ज किया है।