संयम से आगे बढ़ते हुए कोरोना से लड़ाई जीतेगा छतरपुर-आलोक चतुर्वेदी

कांग्रेस नेताओं पर दर्ज एफआईआर का किया विरोध

छतरपुर। समूचे विश्व को अपनी चपेट में लेने वाली कोरोना महामारी से अब तक छतरपुर जिला बचा हुआ है। छतरपुर विधायक आलोक चतुर्वेदी पज्जन भैया ने इस बात पर संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि कोरोना के खिलाफ चल रही इस लड़ाई में छतरपुर के नागरिकों के धैर्य और संयम का ही ही नतीजा है कि अब तक लॉक डाउन व्यापक रूप से सफल रहा जिसके कारण एक भी कोरोना मरीज हमारे जिले में सामने नही आया है। हालांकि उन्होंने कहा कि अब भी हम सभी को सावधान और सतर्क रहने की जरूरत है।
जनता को इस महामारी से बचाने के लिए पिछले 16 दिन से चल रहे सैनिटाइजेशन अभियान की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि अब तक छतरपुर के 68 गावों के अलावा छतरपुर शहर के 90 प्रतिशत भाग पर वायरस रोधी दवा का छिड़काव उनके द्वारा कराया जा चुका है। शनिवार को
रोरा,दालोन,हमा,सोरा,थरा,
गंगायच,पठापुर,परापट्टी,सौरा
ढडारी,बगौता,रसुइया भाटन,कतरवारा,ललोनी
देरी,धौरी,कालापानी के अलावा छतरपुर नगर में बीड़ी कॉलोनी,शिव नगर,देरी रोड
पन्ना नाका पर ऑरेंज रेस्टोरेंट के पीछे भी सैनिटाइजेशन अभियान चलाया गया। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने लोगों को मास्क,साबुन आदि का वितरण करते हुए उनसे लॉक डाउन के पालन की अपील की।

कांग्रेस नेताओं पर दर्ज एफआईआर का किया विरोध

छतरपुर विधायक आलोक चतुर्वेदी ने सिटी कोतवाली पुलिस द्वारा बीते रोज कांग्रेस के पूर्व पार्षद विशाल शर्मा और महामंत्री गिविंद तिवारी के खिलाफ दर्ज की एफआईआर का विरोध किया है।उन्होंने शनिवार को कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह और पुलिस अधीक्षक कुमार सौरभ के सामने इस कार्यवाही का विरोध जताते हुए इस एफआईआर पर खात्मा लगाने की मांग की है। शनिवार को आपदा प्रबंधन समिति की बैठक के दौरान विधायक ने यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि कांग्रेस के लोग गरीब जनता को राशन न मिल पाने की स्थिति में अपनी शिकायत लेकर तहसील गए थे। उक्त नेता पांच से कम संख्या में थे, साथ ही उनके द्वारा न तो कोई जुलूस निकाला गया न ही धरना प्रदर्शन किया गया। फिर किस आधार पर उनके खिलाफ धारा 144 के उल्लंघन की एफआईआर दर्ज कराई गई है। उन्होंने कहा कि एसडीएम कार्यालय में लगे सीसीटीवी कैमरे और मीडिया की तस्वीरों व वीडियो में साफ देखा जा सकता कि कार्यकर्ताओं ने किसी कानून का उल्लंघन नही किया था। इस तरह की कार्यवाही कोरोना के खिलाफ चल रही हमारी एकजुट लड़ाई को कमजोर कर सकती है।