भगवान श्री परशुराम जयंती 26 को, सुबह करें हवन, शाम को 7.30 बजे घर पर जलाएं दीपक


पं कृष्णकान्त तिवारी


छतरपु र।। भगवान परशुराम की जयंती पर पहली बार ब्राम्हण समाज के घरों में दीपक जलाऐ जाऐंगे। भगवान परशुराम के मंदिर में इस साल किसी भी तरह का कोई सार्वजनिक पूजन-कार्यक्रम आयोजित नहीं किया जायेगा। घर-घर में शायं 7.30 पर 11, 21 व 51 दीपक जलाए जाएंगे।
अखिल भारतीय ब्राम्हण महासभा रा. के प्रदेश पदाधिकारी व समाजसेवी पं कृष्णकान्त तिवारी ने बताया, कि समाज के लोग 26 अप्रैल को सुबह अपने-अपने घरों में भगवान परशुराम की पूजा करें। पूजा के साथ हवन भी आवश्यक रूप से करें। हवन में जावित्री का प्रयोग अवश्य करें। इससे श्वांस रोगों की रोकथाम में मदद मिलती है। इसके बाद शाय 7.30 बजे अपने-अपने घरों में दीपक जलाकर शहर को दीपावली जैसा कर दें। शासन के नियमों का पालन हर हाल में करें और कोरोना वायरस से बचने के लिये घरों से बाहर न निकलें। भगवान परशुराम के दर्शनों के लिये मंदिरों में नहीं जायें। आपको बता दें, कि ब्राम्हण समाज के लोगों द्वारा भगवान परशुराम के मंदिरों पर व विशाल चल अचल समारोह रैली आयोजित की जाती है। अनेक जगहों पर ब्राम्हण समाज द्वारा वाहन रैली निकाली जाती है और कई स्थानों पर भण्डारे आयोजित किये जाते हैं। लेकिन लाॅकडाउन के चलते नागरिकों की सुरक्षा व देशहित को देखते हुये समाज के समस्त संगठनों द्वारा व ब्राम्हण समाज द्वारा सभी प्रकार के कार्यक्रम निरस्त कर दिये गये है। इसके साथ ही ब्राम्हण समाज के द्वारा सभी को नियमों व घरों से न निकलने हेतु निवेदन किया गया है। पं कृष्णकान्त तिवारी ने कहा है, कि भगवान परशुराम के जन्मोत्सव के अवसर पर ब्राम्हण समाज के समस्त बंधुओं से आवाहन करना चाहते हैं, कि सभी भाई अपनी कोई एक बुरी आदत का त्याग कर दें यही भगवान परशुराम जी के लिये हमारी सच्ची श्रद्धा होगी।