सेंटर मूल्यांकन का विरोध कर रहे शिक्षकों की आवाज दबा रहा प्रशासन

 साथी शिक्षक के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किए जाने के बाद दहशत में शिक्षक

 छतरपुर-प्रदेश में छतरपुर एक ऐसा जिला है यहां 10वीं व 12वीं कक्षा की परीक्षा के मूल्यांकन का कार्य सेंटर पर किया जा रहा है इसके लिए शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल क्रमांक 1 व 2 को मूल्यांकन सेंटर बनाया गया है जबकि प्रदेश के अन्य जिलों में मूल्यांकन का कार्य शिक्षकों द्वारा घर पर ही किया जा रहा है।

 मंगलवार को मूल्यांकन कर रहे शिक्षकों द्वारा सेंटर मूल्यांकन का विरोध करते हुए जमकर प्रदर्शन किया गया और प्रशासन मुर्दाबाद के नारे लगाए गए जिस के समर्थन में व्याख्याता व राजपत्रित अधिकारी संघ के अध्यक्ष बीपी चंसोरिया भी पहुंचे जिन्होंने भी शिक्षकों का साथ देते हुए प्रशासन की इस कदम का विरोध किया जिस पर प्रशासन द्वारा बीपी चंसोरिया के खिलाफ नामजद मामला पुलिस में दर्ज कराया गया है वहीं 15 अन्य शिक्षकों के खिलाफ भी मूल्यांकन केंद्र प्रभारी अशोक खरे की शिकायत पर सिविल लाइन थाने में धारा 188 269 270 के तहत मामला दर्ज किया गया है

सेंटर मूल्यांकन का विरोध कर रहे शिक्षकों ने बताया कि यहां कई ऐसे शिक्षक हैं जो 80 से 100 किलोमीटर दूर से मूल्यांकन का कार्य करने आ रहे हैं लॉक डाउन के समय बसों का संचालन बंद है शिक्षकों को इतनी दूरी पर आने पर दुर्घटना की संभावना बनी रहती है साथ ही किससे मिलके आ रहे है कहा से होकर आ रहे है इसकी भी जानकारी नही रहती,शिक्षकों ने कहा कि जिस तरह अन्य जिलों में सुरक्षा की दृष्टि से प्रशासन द्वारा घर पर मूल्यांकन करने का निर्णय लिया गया उसी तरह छतरपुर में निर्णय लिया जा सकता था परंतु ऐसा नहीं किया गया जिस तरह शासन में अन्य कर्मचारियों का लॉक डॉन के दौरान बीमा सहित अन्य सुविधाएं प्रदान की हैं यदि शासन उस तरह हमें भी सुविधाएं प्रदान करें तो हमारा भविष्य सुरक्षित होगा लेकिन ऐसा नहीं किया गया इसलिए हम सब सेंटर मूल्यांकन का विरोध कर रहे हैं

 2 दिन पूर्व मूल्यांकन कार्य में लगे एक शिक्षक की तबीयत अचानक खराब हुई थी जिसे इलाज के लिए जिला चिकित्सालय ले जाया गया जहां उन्हें को रोना मरीजों के लिए बनाए गए आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है डॉक्टर द्वारा शिक्षक की जांच कर रिपोर्ट बाहर भेज दी गई है  अपने साथी शिक्षक के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती होने के बाद से देख यहां कार्य कर रही शिक्षक और भी दहशत में है