पीडब्ल्यूडी ने शासकीय बंगलों में मेंनटीनेंस के नाम पर किए करोड़ों रुपए खर्च

कलेक्टर बंगले पर हुआ एक करोड़ रुपए खर्च

विनोद अग्रवाल

छतरपुर।मप्र में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद फिर से भाजपा की सरकार बन गई और पीडब्ल्यूडी के कार्यपालन यंत्री एवं सहायक यंत्रियों ने शासकीय बंगलों में मेंनटीनेंस के नाम पर लाखों रुपए का गोलमाल किया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार छतरपुर जिले के तत्कालीन कलेक्टर मोहित बुंदस ने अपने बंगले पर एक वर्ष तक लगातार मेंनटीनेंस का काम करवाया जिसमें लगभग एक करोड़ रुपए की राशि खर्च कर दी गई। 
जिसकी जानकारी सूचना के अधिकार के तहत मांगी गई परंतु विभाग के अधिकारी जानकारी देने में आनाकानी कर रहे हैं। जिसकी अपील सूचना आयुक्त भोपाल को कर दी गई है। मजेदार बात ये है कि पूरे जिले में शासकीय भवनों के मेंनटीनेंस के लिए सरकार द्वारा लाखों रुपए का बजट दिया जाता है। परंतु विभाग के अधिकारियों द्वारा इस बजट में भारी कमीशनखोरी कर लीपापोती कर दी जाती है। केवल कलेक्टर एवं एसपी के बंगले को छोड़कर सभी बंगलों में नाम मात्र का काम कराया जाता है। जिसके कारण पीडब्ल्यूडी के सभी शासकीय बंगले धीरे धीरे धराशाई होते चले जा रहे हैं। जिले के अधिकांश अधिकारी इन बंगलों में रहना पसंद नहीं करते। जिसके चलते पीडब्ल्यूडी के सहायक यंत्री इसका फायदा उठाकर मेंनटीनेंस के नाम पर आने वाली राशि का गोलमाल कर रहे हैं। कुछ चहेते ठेकेदारों के नाम से वर्कआर्डर जारी कर बंगलों का रखरखाव करवा देते हैं और पूरा पैसा बंदरबांट कर रहे हैं। पीडब्ल्यूडी में एक सहायक यंत्री आर.एस. शुक्ला छतरपुर जिले में विगत आठ वर्षों से लगातार कार्यरत हें और जमकर भ्रष्टाचार करने में तुले हुए हैं। इस संबंध की शिकायत प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से सीएम हेल्पलाइन पर की गई है।